ग्रामोद्योग मेले में खादी उत्पादों की ओर जनता हो रही है आकर्षित

कहते हैं कि किसी भी देश की विरासत को आसानी से ख़त्म नहीं किया जा सकता। भारत देश कितना भी आगे क्यों न बढ़ जाए लेकिन अपनी जड़ों से हमेशा जुड़ा हुआ प्रतीत होता है यही वजह है कि वेस्टर्न कपड़ों के बीच एक बार फिर से लोग खादी के कपड़ों और उत्पादों की तरफ आकर्षित हो रहे हैं।

Rajasthan के Udaipur में राज्य कायार्लय खादी एवं ग्रामोद्योग भारत सरकार के संयोजन में Ambedkar Development Committee Chomu द्वारा टाउनहॉल में आयोजित किये जा रहे 15 दिवसीय खादी एवं ग्रामोद्योग मेले में जनता खदी उत्पादों की ओर आकर्षित हो रही है।

बिल गेट्स बने अमेरिका के सबसे बड़े किसान

नगर निगम के Town hall courtyard में चल रहे खादी मेला के प्रति शहरवसियों में खासा उत्साह देखा जा रहा है। मेले में आने वाले हर व्यक्ति की अलग-अलग पसन्द के अनुसार यहां खादी की स्टॉलों पर ऊनी, सूती खादी उपलब्ध है। बता दें कि इस बार जयपुर की रजाईयों की भी धूम मची हुई है। जयपुरी सांगानेरी रजाईयों को जनता खूब पसन्द कर रह है।

गोविन्दगढ़- मालपुर जयपुर से मेले में आये भंवरलाल वारमा ने बताया कि उनके पास ऊनी खादी, सूती खादी, पोलो खादी एवं रेशमी खादी के हर तरह के उत्पाद उपलब्ध है, जिन्हें उदयपुर की जनता द्वारा खूब पसन्द किया जहा रहा है। डस्टर क्लॉथ, टॉवेल, कुतार् आधा आस्तीन एवं पूरी आस्तीन का, पायजामा, धोती, लूंगी, जाकिट क्लॉथ, सूती साड़ी, आसन, रजाई क्लॉथ, बेडशीट में सिंगल एपं डबल दोनों, खेश (ओढने का चद्दर) यह भी प्रचूर मात्रा में है, जिन्हें इस बार जनता हाथों-हाथ ले रही है। इससे उम्मीद जताई जा रही है कि खादी उत्पादों की मांग अभी और बढ़ सकती है।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं