पूर्वी लद्दाख के गलवां घाटी में भारत और चीन के बीच हिंसक झड़प के बाद भारत और चीन की सेनाओं के बीच तनाव बढ़ गया था। जिसके बाद पहले तो चीन इस झड़प में किसी भी तरह की बात नहीं कबूल रहा था लेकिन हाल ही में चीन ने आधिकारिक रूप से ये स्वीकार कर लिया था कि इस झड़प में उसके चार सैनिक मारे गए थे

अब चीनी सरकार के इस बयान को लेकर चीन की मीडिया ही सवाल पूछने लगी है। चीन के कुछ पत्रकारों ने मरने वाले सैनिकों की संख्या केवल चार बताए जाने पर सवाल पूछे हैं। जिसको लेकर चीन ने अपने ही देश के तीन पत्रकारों को गिरफ्तार किया है। इन पत्रकारों पर सैनिकों की शहादत का अपमान करने का आरोप लगाया गया है

लालकिले में दो तलवारें लहराने वाला आरोपी गिरफ्तार

बता दें कि मामले को लेकर अमेरिका की रिपोर्ट भी सामने आई थी। अमेरिका ने जो खुफिया रिपोर्ट साझा की थी उसके मुताबिक पूर्वी लद्दाख के गलवां घाटी में हुई झड़प में चीन के कम से कम 35 सैनिक मारे गए हैं

जिन पत्रकारों को चीनी सरकार ने गिरफ्तार किया है उनमें से एक किउ ने सरकार के आंकड़ों को लेकर सोशल मीडिया पर टिप्पणी की थी और सवाल पूछा था कि आखिर इतनी देरी से आंकड़े जारी क्यों किए गए वहीं किउ के अलावा गिरफ्तार किए गए दो अन्य लोग ब्लॉगर बताए जा रहे हैं

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है