कोविड-19 से जंग में अब बुलंदशहर अहम भूमिका निभाने जा रहा है। Bulandshahr की बीबकोल कंपनी को कोवैक्‍सीन तैयर करने की मंजूरी मिली है। बीबकोल हर माह सरकार को डेढ़ करोड़ डोज उपलब्ध कराएगी। कंपनी आगे इस क्षमता को बढ़ाकर दो करोड़ डोज करने का लक्ष्य निर्धारित कर रही है।

कोविड-19 के प्रकोप से जूझ रहे देश को आने वाले दिनों में प्राणरक्षक वैक्सीन के अभाव से नहीं जूझना पड़ेगा। सेंट्रल ड्रग्स कंट्रोल आर्गनाइजेशन (सीडीएससीओ) ने देश की तीन कंपनियों को कोवैक्सीन बनाने के लिए हरी झंडी दे दी है। इनमें बुलंदशहर की नामचीन कंपनी भारत इम्यूनोलाजिकल्स एंड बायोलाजिकल्स कारपोरेशन लिमिटेड (बीबकोल) शामिल है। कोविड-19 से जंग में अब बुलंदशहर अहम भूमिका निभाने जा रहा है। बीबकोल हर माह सरकार को डेढ़ करोड़ डोज उपलब्ध कराएगी।

भारत इम्यूनोलाजिकल्स एंड बायोलाजिकल्स कारपोरेशन लिमिटेड कंपनी आगे इस क्षमता को बढ़ाकर दो करोड़ डोज करने का लक्ष्य निर्धारित कर रही है। उम्मीद है, अक्टूबर से कंपनी उत्पादन शुरू कर सरकार को कोवैक्सीन उपलब्ध कराने लगेगी। फिलहाल कंपनी की तकनीकी टीम कोवैक्सीन तैयार करने के लिए जरूरी संसाधन जुटाने में लगी है। अभी बीबकोल द्वारा देश के लिए पोलियोरोधी वैक्सीन का निर्माण किया जा रहा है।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है