चक्रवाती तूफान Tauktae के बाद अब भारत में बंगाल की खाड़ी में उठने वाला तूफान ‘यास’ पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तटीय क्षेत्रों में भारी तबाही मचा सकता है। इसे देखते हुए पीएम नरेंद्र मोदी आज राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के प्रतिनिधियों, दूरसंचार, बिजली, नागरिक उड्डयन और पृथ्वी विज्ञान मंत्रालयों के सचिवों के साथ एक उच्‍चस्‍तरीय बैठक करेंगे। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘चक्रवात यास’ को लेकर समीक्षा करेंगे।

ओलंपिक विजेता Sushil Kumar पंजाब से हुए गिरफ्तार: सूत्र

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में बन रहा लो प्रेशर चक्रवात यास को और भी खतरनाक बना रहा है और इसका प्रभाव पहले से बढ़ गया है।
भारत में कुछ दिन पहले ही पश्चिमी तट पर आए टाउते चक्रवाती तूफान ने तबाही मचाई थी। टउते तूफान से गोवा, कर्नाटक , महाराष्‍ट्र, गुजरात और केरल को ज्यादा नुकसान उठाना पड़ा था। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए कहा है कि अब पश्चिम बंगाल और ओडिशा (Odisha) के लिए खतरा सामने दिखाई दे रहा है। IMD ने चक्रवात ‘Yaas’ के गंभीर तूफान में बदलने के साथ 26 मई को Odisha और West Bengal के तटों से टकराने की आशंका जताई है।
क्षेत्रीय मौसम-विज्ञान केंद्र के निदेशक GK Das ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में बन रहा लो प्रेशर चक्रवात तूफान यास को और भी खतरनाक बना रहा है। उन्‍होंने कहा कि अभी जिस तरह का प्रभाव देखा जा रहा है उससे हम अंदाज लगा रहे हैं कि 26 मई को चक्रवाती तूफान यास बांग्लादेश और उत्तरी ओडिशा के तटों से टकरा सकता है। जिस समय चक्रवात तूफान यास पश्चिम से आएगा उस वक्‍त सुबह से ही हवा की रफ्तार तकरीबन 90-100 किमी प्रति घंटे से 110 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने की उम्मीद है।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है