भारत देश में हर त्यौहार को मनाने का अपना अलग ही मज़ा और मान्यताएं हैं। हिंदू पंचांग के प्रत्येक मास में कृष्ण पक्ष व शुक्ल पक्ष के अनुसार दो एकादशी आती हैं। इनमें से हरेक का अपना महत्व है। ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष में आने वाली Apara Ekadashi का भी भक्तों में विशेष महत्व माना जाता है। इसे Achala Ekadashi के नाम से भी जाना जाता है। इस बार यह 6 जून को पड़ रही है। इस दिन भगवान विष्णु की विधि-विधान से पूजा होती है और उनसे धन-संपत्ति की प्राप्ति की प्रार्थना की जाती है। Apara Ekadashi का महत्व महाभारत काल से जुड़ता है।

इस दिन भगवान नारायण की पूजा करके आशीर्वाद लिया जाता है और विष्णु जी का व्रत रखते हैं। यदि संभव हो तो गंगा स्नान अवश्य करें। एकादशी को गंगा स्नान से समस्त पाप नष्ट होते हैं और पुण्य फल की प्राप्ति होती है, धन-धान्य की वृद्धि होती है। इस दिन किसी भी तीर्थ स्थल की यात्रा कर दर्शन करें और वहां दान जरूर करें। धार्मिक ग्रंथों में उल्लेख मिलता है कि महाभारत काल में युधिष्ठिर के आग्रह करने पर श्रीकृष्ण भगवान ने Apara Ekadashi व्रत के महत्व के बारे में पांडवों को बताया था। Apara Ekadashi के व्रत के प्रभाव स्वरूप पांडवों ने महाभारत का युद्ध जीत लिया। मान्यता है कि Apara Ekadashi व्रत रखने से अपार धन की प्राप्ति होती है।

Apara Ekadashi का शुभ मुहूर्त

• एकादशी तिथि का आरंभ: 05 जून 2021 को सुबह 04:07 से
• एकादशी तिथि का समापन: 06 जून 2021 को सुबह 06:19 बजे
• एकादशी व्रत पारण समय: 7 जून 2021 को सुबह 05:12 से 07:59 तक

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है