ताज नगरी Agra में जिला पंचायत चुनाव की रणभेरी बज चुकी है। स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं निर्भीक चुनाव के लिए प्रशासनिक तैयारियां जोरों पर हैं। आगरा में शांतिपूर्ण जिला पंचायत चुनाव कराना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती होगी।

जिला पंचायत चुनाव से ठीक पहले हाल ही में दो वरिष्ठ पुलिस पदाधिकारियों का तबादला हुआ और नए अधिकारियों ने कानून व्यवस्था की कमान संभाल ली है। आईजी ए सतीश गणेश की जगह नवीन अरोड़ा को नया आईजी बना दिया गया है तो एसएसपी बबलू कुमार की जगह नए एसएसपी के तौर पर मुनिराज जी ने कमान संभाल ली है।

मालूम हो कि आगरा में 15 अप्रैल को जिला पंचायत चुनाव के लिए मतदान कराए जाएंगे। इस बार का पंचायत चुनाव प्रशासन के लिए दोहरी चुनौती होगी। एक तरफ भयमुक्त और निष्पक्ष चुनाव कराने की प्रतिबद्धता तो दूसरी ओर एक बार फिर से तेजी से पांव पसार रहे कोरोना से बचाव की जिम्मेवारी लेकर पुलिस एवं प्रशासन को चुनाव संपन्न कराना होगा।

जरा सी भी असावधानी जिले में बड़े कोरोना विस्फोट को जन्म दे सकती है। ऐसे में जाहिर है कि कोरोना की दूसरी लहर को रोकने के लिए पुलिस प्रशासन चुनाव प्रचार, मतदान एवं मतगणना के दौरान सख्त रवैया अपना सकती है।

मालूम हो कि आगरा में जिला पंचायत चुनाव को लेकर प्रशासन ने तैयारियां पूरी कर ली है। सुरक्षा व्यवस्था को दुरुस्त रखने के लिए जिले को 12 सुपर जोन में बांट दिया गया है। इसमें 3 हजार से ज्यादा पुलिस कर्मियों को तैनात किया जाएगा। हर जोन में पुलिस के साथ पीएसी और पैरा मिलिट्री फोर्स को भी तैनात किया जाएगा। संवेदनशील बूथ के तौर पर चिन्हित बूथों पर अतिरिक्त बल पुलिस बल को तैनात किया जाएगा।

एसएसपी मुनिराज ने बताया कि पंचायत चुनाव शांतिपूर्ण हो इसके लिए अभी से ही अपराधी एवं असामाजिक तत्वों पर कानूनी कार्रवाई शुरु कर दी गई है। 47 हजार से ज्यादा संदिग्ध तत्वों को पांबद कर दिया गया है। बाहुबलियों की निगरानी की जा रही है। चुनाव में अवैध शराब न बांटा जाए, इसके लिए लगातार धरपकड़ की जा रही है।

मदन मोहन सोनी

यह भी पढ़ें: Delhi हाई कोर्ट ने EC से किया सवाल, चुनावी रैलियों में…

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है