Coronavirus ने हर त्यौहार का मज़ा ख़राब किया हुआ है। कश्मीर में सदियों से चले आ रहे माता Kheer Bhawani के मेले पर लगातार दूसरे वर्ष भी कोरोना की मार पड़ी है। Corona महामारी के कारण इस वर्ष भी मेला आयोजित नहीं हुआ। लेकिन जो श्रद्धालु मंदिर पहुंचे उसे कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार दर्शन करने की अनुमति दी गई।

90 के दशक के बाद से कश्मीर में बिगड़े हालातों के दौर में भी मेले का भव्य आयोजन होता रहा है। हर वर्ष हजारों की संख्या में लोग यहां पहुंचते हैं लेकिन इस बार भी यहां सन्नाटा पसरा हुआ है। माता राजन्य देवी जिन्हें माता खीर भवानी के नाम से भी बुलाया जाता है, का मेला शुक्रवार को लगना था। इसको लेकर मंदिर परिसर और आसपास के इलाकों में तैयारियों को गुरुवार को अंतिम रूप दिया गया। मेले का आयोजन पर्यटन विभाग द्वारा जिला प्रशासन के साथ मिलकर किया जाता है।

विभाग की तरफ से मंदिर परिसर में बने गेस्ट हाउस और सराय में सैनिटाइजेशन का काम किया गया। मंदिर के आसपास बने कुंड और नदी की भी सफाई का काम पूरा किया गया। प्रशासन द्वारा मेले को लेकर कोई भी औपचारिक बयान जारी न करने को लेकर हजारों श्रद्धालु असमंजस में दिखे। उनका कहना है कि अगर मेले का आयोजन नहीं किया जाना था तो उसको लेकर स्पष्ट रूप से बयान जारी किया जाना चाहिए था, क्योंकि हजारों श्रद्धालु साल भर इस मेले में शामिल होने के लिए इंतजार में रहते हैं। बता दें कि सरकार ने मेले की अनुमति नहीं दी है, लेकिन अगर कोई आता है उसे प्रोटोकॉल के तहत मंदिर में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है