Lal Bahadur Shastri भारत के 1964 में दूसरें प्रधानमंत्री बने थे। शास्त्री जी 18 महीने तक देश के PM ( प्रधानमंत्री ) रहे।

जय जवान-जय किसान का नारा देने वाले प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री की आज पुण्यतिथी है। लालबहादुर शास्त्री की आज के ही दिन रहस्यमयी मृत्यु हुई थी। 11 जनवरी 1966 में शास्त्रीजी ने पाकिस्तान से शांति समझौता करने के लिए उज्बेकिस्तान के ताशकंद शहर गए थे इसी दौरान उनकी रहस्यमय तरीके से मृत्यु हो गई। दरअसल Lal Bahadur Shastri भारत के 1964 में दूसरें प्रधानमंत्री बने थे। शास्त्री जी 18 महीने तक देश के PM ( प्रधानमंत्री ) रहे। शास्त्री जी अपनी सादगी के लिए जाने जाते है। साथ ही शास्त्री जी को सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

बेहद खूबसूरत है लाल बहादुर शास्त्री की कार लेने की कहानी..

Lal Bahadur Shastri का जन्म

जय जवान-जय किसान का नारा देने वाले पूर्व प्रधानमंत्री शास्त्री जी की पुण्यतिथि आज, जाने कैसे हुई रहस्यमयी मृत्यु

लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर, 1904 में Varanasi ( वाराणसी ) के मुगलसराय में हुआ था। उनके पिता का नाम शारदा प्रसाद श्रीवास्तव,माता का नाम रामदुलारी देवी, पत्नी का नाम ललिता देवी और उनके कुल 6 बच्चे हुए। काशी विद्यापीठ से उन्होने अपनी पढ़ाई पूरी की। शास्त्री जी ने  1930 में नमक सत्याग्रह में हिस्सा लिया था जिसके लिए उन्हें दो साल की कैद हुई। शास्त्री जी ने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन किया। आपकों बतादें कि कुल मिलाकर नौ साल शास्त्री जी जेल में रहें।

देश के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का आज है जन्मदिन, जानिए उनके बारे…

कैसे हुई Shastri जी की मृत्यु

जय जवान-जय किसान का नारा देने वाले पूर्व प्रधानमंत्री शास्त्री जी की पुण्यतिथि आज, जाने कैसे हुई रहस्यमयी मृत्यु

पाकिस्तान में शांति समझौता करने के लिए सोवियत संघ के ताशकन्द में राष्ट्रपति अयूब खान के साथ युद्ध पर विराम लगाने के समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए गए हुए थे। इसी दौरान उनकी 11 जनवरी की रात 1.32 बजे मृत्यु हो गई। मौत की जांच रिपोर्ट को गुप्त रखा गया है। तो वहीं माना जाता है कि उनकी मृत्यु दिल के दौरे के दौरान हुई लेकिन उनकी पत्नी ललिता शास्त्री ने कहा कि उनकी जहर देकर हत्या की गई है। ललिता ने और उनके बेटे सुनील शास्त्री ने कहा था कि उनके पिता की बॉडी पर नीले निशान थे साथ ही उनके शरीर पर कट के निशान भी थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here