देश की स्वदेशी वैक्सीन बनाने वाली कंपनी Bharat Biotech ने एक हालिया स्टडी पर सवाल उठाए हैं। हालांकि इस स्टडी में कहा गया था कि Covaxin की तुलना में Oxford-AstraZeneca की वैक्सीन ज्यादा एंटीबॉडी बनाती है। ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन का भारत में ट्रायल Serum Institute ने किया है और वो इसे कोविशील्ड के नाम से बेच रहा है। भारत बायोटेक ने कहा है कि इस स्टडी में कई तरह कमियां हैं। कोवैक्सीन को ICMR और भारत बायोटेक ने साथ मिलकर बनाया है।
Bharat Biotech ने कहा है कि इस स्टडी का पीयर-रिव्यू नहीं हुआ है और न ही सांख्यिकी पैमाने पर सही बैठती है। ये स्टडी CTRI की वेबसाइट पर रजिस्टर नहीं है, और ना ही CDSCO व एसईसी द्वारा अप्रूव है।
भारत बायोटेक ने कहा, ये समझना जरूरी है कि फेज 3 का Trial Data पहले सीडीएससीओ के पास भेजा जाएगा। इसके पीयर Review Journal में इस पर स्टडी प्रकाशित होगी। Covaccine के फेज 3 Trial का पूरा डेटा जुलाई महीने तक सार्वजनिक कर दिया जाएगा।
America के शीर्ष महामारी विशेषज्ञ Dr. Anthony Fossey ने भी कोवैक्सीन की तारीफ की थी। उन्होंने कहा था कि कोवैक्सीन कोविड-19 संक्रमण 617 वैरिएंट्स को बेअसर करने में कारगर है। विशेषज्ञ Dr. Anthony ने कहा था, जहां हम अभी भी रोज काफी स्तर पर डेटा जुटा रहे हैं। कोरोना वायरस का कॉन्वालैसेंट सेरा व देश में उन लोगों के बारे में जानकारी जुटा रहा था, जिन्होंने Covaxin प्राप्त की है

यह भी पढ़ें: कभी बैंक में नौकरी करते थे Jitin Prasada, जानें किस तरह शुरू हुआ सियासी सफर

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है