भारत में कोविड-19 संक्रमण की दूसरी लहर के कमजोर होने व आशंकित तीसरी लहर के बीच Indian government ने अनलॉक की प्रक्रिया के बारे में अहम जानकारी दी है। भारत सरकार ने कहा है कि अगर एक हफ्ते तक पॉजिटिविटी रेट 5 प्रतिशत से कम हो उसके साथ ही कुल आबादी के करीब 70 प्रतिशत लोगों का vaccination हो चुका हो, फिर भी covid protocols का सख्ती से पालन किया जाए। इसके बाद ही देश के कुछ जिलों में अधिकतर पाबंदियों में छूट दी जाए।

Covid-19 टास्क फोर्स के सदस्य Dr. Balram Bhargava ने इस बात पर जोर दिया कि प्रतिबंधों से धीरे-धीरे छूट दिये जाने से कोरोना वायरस के केसों में तेजी नहीं आएगी। Dr. Balram Bhargava ने कहा कि भारत में तीसरी लहर को रोकने के मामले में 5 फीसदी से कम positivity rate वाले जिलों को थोड़ा खोलना चाहिए। जिलों में पाबंदियों में ढील दिए जाने के बारे में Dr. Balram Bhargava ने कहा कि ऐसे जिलों में एक हफ्ते तक Corona Virus संक्रमण दर 5 प्रतिशत से कम होनी चाहिए, वहीं 70 फीसदी से ज्यादा पात्र आबादी का टीकाकरण हो जाना चाहिए व कोरोना वायरस के उपयुक्त व्यवहार करने के लिए Community level पर जागरूकता होनी चाहिए।

डॉ. भार्गव ने कहा, हम कोविड-19 संक्रमण की दूसरी लहर के बीच में हैं। वहीं अगर आंकड़ों पर नजर डालें तो अप्रैल 2021के पहले सप्ताह में हमारे पास 200 से भी कम ऐसे जिले थे, जिनमें 10 प्रतिशत से अधिक Corona Virus संक्रमण दर था। अप्रैल के अंतिम सप्ताह में 600 जिलों में 10 फीसदी से ज्यादा positivity rate था। उधर, नीति आयोग के सदस्य V.K. Paul ने कहा, विशेषज्ञों द्वारा जो पेश किए जा रहे हैं उसके मुताबिक Corona Virus संक्रमण के केसों में कमी आएगी और जून में स्थिति अच्छी रहेगी, लेकिन चिंता तब है जब लॉकडाउन खत्म होगा तो हम किस तरह से व्यवहार करते हैं।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है