Corona virus को मात देनी है तो Vaccine लगवानी होगी लेकिन कौन सी Vaccine लगवाएं। सब Vaccine में से आख़िर किसे चुने? अगर आपके दिमाग में भी यही सवाल घूम रहा है तो ये ख़बर ज़रूर पढ़ें। जानें, Antibodies क्या होती हैं Antibodies शरीर का वो तत्व है, जिसका निर्माण हमारा इम्यून सिस्टम शरीर में वायरस को बेअसर करने के लिए पैदा करता है। Corona virus के संक्रमण के बाद Antibodies बनने में कई बार एक हफ्ते तक का वक्त लग सकता है। जब कोई व्यक्ति Corona virus से संक्रमित हो जाता है तो उसके शरीर में एंटीबॉडी बनते हैं। ये वायरस से लड़ते हैं। ठीक हुए 100 Corona मरीजों में से आमतौर पर 70-80 मरीजों में ही एंटीबॉडी बनते हैं। अमूमन ठीक होने के दो हफ्ते के अंदर ही एंटीबॉडी बन जाता है। कुछ मरीजों में Corona से ठीक होने के बाद महीनों तक भी एंटीबॉडी नहीं बनता है।

Corona काल में दिमाग में आने वाले सवाल

• Corona virus के खिलाफ कौन सी Vaccine अधिक प्रभावी है?
• किस Vaccine को लगवाने से Corona संक्रमण का खतरा खत्म हो जाएगा?
• कौन सी Vaccine का साइड इफेक्ट सबसे कम है?
• कौन सी Vaccine लगवाने से एंडीबॉडी तेजी से और अधिक बनने लगते हैं?

Corona की दूसरी लहर के बीच Vaccine लगवाने से पहले लोगों के मन में इसी तरह के कई सवाल उठ रहे हैं। ऐसे में हाल ही में आई एक स्टडी में कहा गया है कि ऑक्सफर्ड-एस्ट्राजेनेका की Covishild स्वदेशी Covaxine की तुलना में अधिक एंडीबॉडीज बनाती है। स्टडी में कहा गया है कि Anti Corona virus दोनों Vaccine Covishild और Covaxine दोनों का रेस्पॉन्स अच्छा है। लेकिन सीरोपॉजिटिवी रेट और एंटी स्पाइक एंटीबॉडी Covishild में अधिक है। सर्वे में शामिल 456 हेल्थकेयर वर्कर्स को Covishild और 96 को Covaxine की पहली डोज दी गई थी। पहली डोज के बाद ओवरऑल सीरोपॉजिटिविटी रेट 79.3% रहा।

पहली डोज के बाद हुई स्टडी

Corona virus Vaccine-इंड्यूस्ड एंडीबॉडी टाइट्रे (COVAT) की तरफ से की गई शुरुआती स्टडी के अनुसार Vaccine की पहली डोज ले चुके लोगों में Covaxine की तुलना में Covishild Vaccine लेने वाले लोगों ने एंटीबॉडी अधिक बनती है। इस स्टडी में 552 हेल्थकेयर वर्कर्स को शामिल किया गया था। स्टडी में दावा किया गया कि Covishild Vaccine लगवाने वाले लोगों में सीरोपॉजिटिविटी रेट (Seropositivity Rate) से लेकर एंटी-स्पाइक एंटीबॉडी Covaxine की पहली डोज लगवाने वाले लोगों की तुलना में काफी अधिक थे।

दूसरे डोज के बाद हुई स्टडी

स्टडी के निष्कर्ष में कहा गया कि दोनों Vaccine लगवा चुके हेल्थकेयर वर्कर्स में इम्यून रिस्पॉन्स अच्छा था। COVAT की चल रही स्टडी में दोनों Vaccine की दूसरी डोज लेने के बाद इम्यून रेस्पॉन्स के बारे में और बेहतर तरीके से रोशनी डाली जा सकेगी। स्टडी में उन हेल्थ वर्कर्स को शामिल किया गया जिन्हें Covishild और Covaxine दोनों में से कोई भी Vaccine लगाई गई थी। साथ ही इनमें से कुछ ऐसे थे जिन्हें सार्स-सीओवी-2 संक्रमण हो चुका था। वहीं, कुछ ऐसे भी थे जो पहले इस वायरस के संपर्क में नहीं आए थे।

यह भी पढ़ें: Delhi में अब सिर्फ दूसरी डोज वालों को ही लगेगी Covaxin, जानें पूरा मामला

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है