कोरोना वायरस (Corona virus) के खिलाफ अब देश निर्णायक लड़ाई लड़ने के मूड में आ गया है। भारत इस साल दिसंबर तक देश में Corona virus के खिलाफ जंग में करीब 2 अरब से अधिक वैक्सीन (The vaccine) की खुराकें उपलब्ध होने की उम्मीद कर रहा है। देश में भले ही अभी दो vaccine से टीकारण अभियान (Vaccination Campaign) चल रहा है, मगर सीरम की कोविशील्ड और भारत बायोटेक (Kovishield, Bharat Biotech) की कोवैक्सीन के अलावे आने वाले कुछ समय में और भी वैक्सीन उपलब्ध हो जाएंगी, जिस पर फिलहाल काम चल रहा है। सरकार ने 8 वैक्सीन की संभावित लिस्ट पेश की है, जिसमें कोविशील्ड, कोवैक्सीन और स्पूतनिक-वी (Kovishield, Kovaxin and Sputnik-V) भी शामिल हैं और इनसे ही देश में टीकाकरण चल रहा है।

NITI Aayog के सदस्य वी के पॉल ने कहा कि रूसी Vaccine Sputnik-V अगले सप्ताह भारत के बाजारों में उपलब्ध हो जाएगी। सरकार आने वाले समय में इन तीन vaccine के अलावा जिन पांच वैक्सीन के तैयार होने की उम्मीद कर रही है, उनमें से चार वैक्सीन मेड इन इंडिया है। तो चलिए जानते हैं आने वाली सभी vaccine के बारे में सबकुछ। Biological e subunit vaccine यह एक सबयूनिट vaccine है जो परीक्षण के तीसरे चरण में है। इस वैक्सीन को पहले और दूसरे चरण के ट्रायल में सुरक्षित पाया गया है। सरकार इस vaccine को लेकर कापी आशान्वित है। केंद्र को अगस्त से दिसंबर के बीच इस टीके की 30 करोड़ खुराक मिलने की उम्मीद है, बशर्ते उसे इसकी अनुमति मिल जाए।

Zydus Cadila DNA Vaccine जायडस कैडिला की यह vaccine अपने तीसरे चरण के ट्रायल में है और कंपनी जल्द ही इसके लाइसेंस के लिए भारत में अप्लाई करेगी। यह तीन खुराकों वाली वैक्सीन है और इसे इंजेक्शन फ्री तकनीक से दिया जाएगा। सरकार को दिसंबर तक जायडस कैडिला vaccine की 5 करोड़ खुराक मिलने की उम्मीद है। Novavax or Kovavax कोविशील्ड बनाने वाली कंपनी Serum Institute of India ही इस वैक्सीन का भारत में उत्पादन करेगी। इस वैक्सीन को अमेरिकी कंपनी Novavax ने विकसित किया है। Bharat Biotech नाक से दीन जाने वाली नेजल vaccine पर काम कर रही है। यह वैक्सीन एक खुराक की होगी और सूई मुक्त होगी, जिसे Bharat Biotech विकसित कर रहा है। फिलहाल, इस vaccine की पहले और दूसरे चरण का ट्रायल हो रहा है। वीके पॉल ने कहा कि कंपनी ने काम करना शुरू कर दिया है और डेटा भी कंपनी से आया है। जेनोवा एमआरएनए वैक्सीन: पुणे की जेनोवा बायोफार्मास्युटिकल्स कंपनी यह मैसेंजर आरएनए वैक्सीन (mRNA वैक्सीन) को विकसित कर रही है। बता दें कि फाइजर और मॉडर्न भी mRNA वैक्सीन ही हैं।

यह भी पढ़ें: पूरी दुनिया के लिए खतरा, भारत में कोरोना वायरस का ट्रिपल म्यूटेंट -WHO

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है