Coronavirus ने जिस तरह लोगों को अपनी चपेट में लिया ये तो सभी जानते हैं लेकिन आज भी कुछ बातों का हम लोग ध्यान नहीं रखते जो हमारी मौत का सबब बनती हैं। Delhi सहित एनसीआर के कई शहरों में कोरोना मरीजों की संख्यां में रोजाना कमी देखी जा रही है। Delhi में ही साढ़े तीन सौ के आसपास रोजाना आ रहे मामलों के साथ ही मौतों में भी गिरावट आई है हालांकि Corona से मिल रही राहत से बीच Pollution फिर से समस्याा बन रहा है।

Lock Down खुलने के बाद एक बार फिर इस इलाके में प्रदूषण स्तिर बढ़ने लगा है। Delhi के अलावा एनसीआर के कई शहरों में प्रदूषण स्तदर खराब और बहुत खराब की श्रेणी में पहुंच चुका है। Delhi की बात करें तो यहां वायु प्रदूषण खराब श्रेणी में पहुंच गया है। सेंट्रल पॉल्यू्शन कंट्रोल बोर्ड (CPCB) के आंकड़े देखें तो आज Delhi में एयर क्वाूलिटी इंडेक्सु (AQI) 231 है। वहीं नोएडा में AQI 257 तक पहुंच चुका है। फरीदाबाद का AQI 245, गाजियाबाद में AQI 210 के साथ ही ग्रेटर नोएडा में 236 और मेरठ में 218 AQI के साथ प्रदूषण स्तंर खराब केटेगरी में है।

CPCB के अनुसार Delhi- NCR के बागपत और सोनीपत (Sonipat) का हाल सबसे ज्याकदा बेहाल है। यहां हवा की गुणवत्ता बहुत खराब की श्रेणी में आ गई है। जहां बागपत में एक्यूpआई 314 है वहीं सोनीपत में 354 तक पहुंच गया है। ऐसे में इन दोनों शहरों में लोगों में रेस्पिरेटरी संबंधी बीमारियां होने की आशंका जताई गई है। साथ ही लोगों को घरों के अंदर ही रहने की सलाह दी गई है।

एनसीआर में गुरुग्राम की स्थिति ठीक है। यहां आज का एयर क्वांलिटी इंडेक्सर 188 है। जो इसे मॉडरेट श्रेणी में रखता है। हालांकि सांस या फेफडों संबंधी बीमारियों से घिरे लोगों के लिए ऐसी हवा में सांस लेना थोड़ी परेशानी पैदा कर सकता है लेकिन फिर भी यहां की हवा दिल्ली और अन्यं शहरों से ठीक है।

ऐसे में यहां के लोगों को कोई भी बाहरी गतिविधि न करने की सलाह दी गई है। CPCB की ओर से कहा गया है कि इस प्रदूषण स्तेर में सांस लेने में कठिनाई हो सकती है। इसके साथ ही अन्यC स्वा स्य्या संबंधी समस्याीएं भी हो सकती हैं लिहाजा सांस और फेफड़ों की बीमारियों से जूझ रहे लोग घर पर ही रहें।

यह भी पढ़ें: UP महिला आयोग की सदस्य का बेतुका बयान, मोबाइल से बिगड़ती है बेटियां

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है