संसद के दोनों सदनों से पास होने के बाद कानून बने नागरिकता संशोधन कानून यानी (CAA) पर बवाल है|

संसद के दोनों सदनों से पास होने के बाद कानून बने नागरिकता संशोधन कानून यानी (CAA) पर बवाल है कि थमने का नाम ही नहीं ले रहा। आए दिन विपक्ष इस मुद्दे पर Modi सरकार पर हमलावर रहता है। वहीं आज यानी सोमवार को Congress के हाथ में सभी समान विचारधारा के दलों को साथ लेने के लिए बैठक का आयोजन किया है।इस बैठक में Congress अन्य दलों के साथ मिलकर CAA के खिलाफ एक संयुक्त रणनीति बनाने और छात्रों के खिलाफ पुलिस की कथित बर्बरता के विरोध में BJP के कमल को मुरझाने की रणनीति बनाएगी।लेकिन, इस बैठक से पहले ही तीन दलों ने हाथ का साथ छोड़ दिया है।

Mamta के गढ़ में गरजे PM Modi, कहा समस्याओं को टालो नहीं, उनसे टकराओ, उन्हें सुलझाओ

बता दें, दोपहर दो बजे होने वाली इस बैठक में शामिल होने के लिए कांग्रेस(Congress) ने कई दलों को निमंत्रण भेजा था।.इस बैठक में कांग्रेस Congress के अलावा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी NCP, डीएमके (DMK) (द्रविड़ मुनेत्र कड़गम), समाजवादी पार्टी (SP), आरजेडी(RJD), लेफ्ट, एयूडीएफ (AUDF) और अन्य दल हिस्सा ले रहे हैं।.लेकिन निमंत्रण के बावजूद तीन प्रमुख दलों तृणमूल कांग्रेस (TMC), बहुजन समाज पार्टी (BSP) और दिल्ली की आम आदमी पार्टी (AAP) ने विपक्ष की इस बैठक से खुद को अलग कर लिया है।

CAA Protest : CAA के विरोध में Mamta Banerjee का हल्ला बोल

गौरतलब हो कि, पश्चिम बंगाल(West Bengal) की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने इस कानून को न सिर्फ बंगाल में लागू करने से मना किया है, बल्कि वो खुद सड़कों पर उतरकर इसका विरोध कर रही हैं।. वहीं, यूपीए चेयरपर्सन की मौजूदगी में होने वाली इस बैठक में शामिल नहीं होने को लेकर बसपा (BSP) सुप्रीमों मायावती (Mayawati) ने राजस्थान में बीएसपी(BSP) विधायकों को कांग्रेस (Congress) में शामिल करना बताया है।तो वहीं, बीएसपी (BSP) के अलावा दिल्ली की आम आदमी पार्टी (AAP) ने भी विपक्ष की इस बैठक से खुद को अलग कर एक बार फिर अपने स्टैंड को जाहिर कर दिया है