मुख्यमंत्री ने बाढ़ पीड़ितों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि हरसंभव राहत के लिए प्रशासन के साथ जनप्रतिनिधि भी खड़े रहेंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बलिया के दूबेछपरा में बाढ़ राहत कार्यों का जायजा लिया। उन्होंने पीड़ितों के बीच राहत सामग्री का वितरण भी किया। दुबेछपरा रिंग बंधा टूटने के बाद पहुंचे मुख्यमंत्री ने पूरे बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण किया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि पीड़ितों को पर्याप्त राहत सामग्री का वितरण किए जाने के साथ ताजा भोजन और स्वच्छ पेयजल की भी व्यवस्था सुनिश्चित कराएं।

सपा सांसद का बड़ा बयान- मुसलमान विदेशी हो गया, और बाकी सब शरणार्थी हो गए

सीएम योगी आदित्यनाथ ने किया बाढग़्रस्त क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण

मुख्यमंत्री ने बाढ़ पीड़ितों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि हरसंभव राहत के लिए प्रशासन के साथ जनप्रतिनिधि भी खड़े रहेंगे। उन्होंने स्थानीय प्रशासन को निर्देश दिया कि पर्याप्त मात्रा में राहत सामग्री उपलब्ध रखी जाए। बाढ़ पीड़ितों को ताजा भोजन और स्वच्छ पेयजल के साथ दवाओं और आवागमन के लिए पर्याप्त नौकाओं की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। पशुपालन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि पशुओं के लिए चारा और उनके चिकित्सा संबंधी तैयारी भी पूरी तरह दुरुस्त रहना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जलस्तर अभी भी बढ़ सकता है। ऐसे में कटान प्रभावित क्षेत्रों में कटान रोकने की भी तैयारी पूरी रहे।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने किया बाढग़्रस्त क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश दिया कि बाढ़ और कटान में जिनका भी किसी प्रकार का नुकसान हुआ है तो उनको 12 घंटे के भीतर मुआवजा दे दिया जाए। इसमें बिलकुल भी लापरवाही नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि राहत कार्य के लिए धन की कोई कमी नहीं है। सभी जनपदों में पर्याप्त धनराशि पहले से ही दी जा चुकी है।

राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर लगाया बड़ा आरोप, कहा मुंह दिखाने लायक नहीं रहेंगे..

Image result for CM yogi in Ballia

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हर साल हो रही कटान को रोकने के लिए स्थाई समाधान किया जाएगा। फिलहाल जलस्तर काफी ज्यादा है, लेकिन जैसे ही यह कम होगा वैसे ही नदी की धारा को डाइवर्ट करने सम्बन्धी प्रोजेक्ट पर विचार किया जाएगा। उन्होंने बताया कि बाढ़ और कटान की समस्या के स्थायी समाधान के लिए पिछले दो वर्षों में आठ जगहों पर ऐसा किया जा चुका है। उन्होंने एक बार फिर दोहराया कि बाढ़ पीड़ितों के हर कष्ट में प्रशासन साथ खड़ा रहेगा।