मायावती ने कोटा की घटना से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सबक लेने की जरुरत है।

कोटा में मासूमों की मौत का आंकड़ा धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा है। बच्चों की मौत का आंकड़ा अब 105 के पार जा चुका है। ऐसे में लगातार राजस्थान की मौजूदा गहलोत सरकार पर लगातार सवालिया निशान खड़े हो रहे है। इस मामले को लेकर राजनीति भी खूब हो रही है। लगातार नेताओं की प्रतिक्रिया इस मामले को लेकर सामने आ रही है। इसी कड़ी में मायावती ने एक बार फिर इसको लेकर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए यूपी के मुख्यमंत्री योगी को नसीहत दी है।

मायावती ने कोटा की घटना से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सबक लेने की जरुरत है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि, ‘हालांकि यहां पूर्व में यू.पी. के गोरखपुर में हुई काफी बच्चों की दर्दनाक मौत से सबक सीखकर अब यू.पी. सरकार को भी अपने अस्पतालों की देखरेख हेतु काफी सतर्क रहना चाहिये। वरना फिर इनकी भी फजीहत राजस्थान की तरह ही होने में देर नहीं लगेगी।’

अमित शाह बोले- CAA पर एक इंच भी पीछे नहीं हटेंगे, राहुल को लेकर कही ये बात

इसके अलावा मायावती ने राजस्थान की गहलोत सरकार को भी घेरा है। मायावती ने दूसरा ट्वीट करते हुए कहा कि, ‘राजस्थान की कांग्रेसी सरकार में कोटा में लगभग 105 मासूम बच्चों की हुई मौत अति चिन्ताजनक। लेकिन इसको लेकर कांग्रेस व इनकी सरकार कतई भी संवेदनशील नजर नहीं आती है। ऐसे में अच्छा होता कि इस मामले में, लोकतान्त्रिक संस्थायें आगे आकर, अपनी संवैधानिक जिम्मेदारी को निभातीं।’

कोटा में बच्चों की मौत पर बवाल, जरा अस्पताल का भी हाल जान लीजिए जनाब

कोटा में 2014 में भी अस्पताल में 15719 बच्चे भर्ती हुए थे। जिसमें से 1198 बच्चों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। इसके अलावा 2015 में 17579 बच्चों को भर्ती करवाया गया था। लेकिन यहां भी 1260 बच्चों को बचाया नहीं जा सका। तो वहीं साल 2019-20 में ये सिलसिला अब जारी हुआ है और ये कहां जाकर रुकेगा पता नहीं। अब ऐसे में इसे अस्पताल प्रशासन की लापरवाही कहें या सरकार का ढीलढाल रवैया जिसके चलते इतना सब हो जाने के बाद भी इसको लेकर अब तक कोई सख्त कदम नहीं उठाया गया है।