कोविड-19 संक्रमण की दूसरी लहर अब देश में थोड़ी थमती नजर आ रही है। लेकिन विशेषज्ञ अभी से ही Third Wave की चेतावनी दे रहे हैं। तीसरी लहर बच्चों को चपेट में ले सकती है। इसकी सबसे बड़ी वजह है देश में बच्चों के लिए कोविड-19 की वैक्सीन न होना। अमेरिकी दवा कंपनी Pfizer ही फिलहाल दुनिया की एकमात्र कंपनी है जिसकी Vaccine बच्चों को लगाई जा रही है। AIIMS Delhi के डायरेक्टर Dr Randeep Guleria का कहना है कि Pfizer की वैक्सीन देश में भी बच्चों को लगाई जाएगी।

भारत सरकार ने बीते दिन इस बात के संकेत दिए हैं कि Pfizer और Moderna की वैक्सीन को देश में जल्द ही Emergency अप्रूवल मिल जाएगी। AIIMS Delhi के डायरेक्टर Dr. Guleria ने कहा कि ये पहला मौका नहीं है जब किसी वैक्सीन को भारत सरकार ने यहां बिना Trial के हरी झंडी दी हो। सवाल उठता है कि आखिर Pfizer और Moderna जैसी वैक्सीन को देश लाने में क्यों देरी हुई। इस सवाल के जवाब में Dr. Guleria ने कहा, इसकी सबसे बड़ी वजह है शुरुआती डेटा का न होना।

कोई भी कोविड-19 वैक्सीन कितनी सेफ है ये डेटा के बाद ही तय किया जा सकता है। यूरोप में Side Effect की खबरें आईं। America और Britain से वैक्सीनेशन के डेटा आने के बाद देश में भी इसे हरी झंडी दी जा रही है।
पिछले हफ्ते कोविड-19 संक्रमण Vaccine की किल्लत के बीच नीति आयोग के सदस्य Dr VK Paul ने कहा था कि देश को जल्द ही Pfizer Vaccine मिल सकती है।

उन्‍होंने उम्‍मीद जताई थी कि जुलाई 2021 तक देश को Pfizer की कोविड-19 वैक्‍सीन मिल जाएगी। अमेरिकी Pharma Company Pfizer ने दावा किया है कि कोरोना वैक्‍सीन देश में फैल रहे कोविड-19 संक्रमण वैरिएंट के खिलाफ असरदार है।

यह भी पढ़ें: जानें, किस देश में मस्जिदों में Loudspeakers की आवाज़ की लिमिट को किया गया तय

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है