लक्ष्मी विलास बैंक को डीबीएस बैंक में विलय होने की कैबिनेट ने दी मंजूरी

0
247
Cabinet approves merger of Laxmi Vilas Bank with DBS Bank

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को बैठक की। बैठक संपन्न होने के बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने संवाददाता सम्मेलन कर कैबिनेट के फैसलों के बारे में बताया। कैबिनेट ने मंगलवार को डीबीएस बैंक इंडिया में लक्ष्मी विलास बैंक को विलय होने की मंजूरी दी। जावड़ेकर ने बताया कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने संकटग्रस्त लक्ष्मी विलास बैंक के डेवलपमेंट बैंक इंडिया लिमिटेड (डीबीआईएल) में विलय के प्रस्ताव पर मुहर लगा दी है। साथ ही एटीसी में एफडीआई को भी मंजूरी दी गई। कैबिनेट मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि लक्ष्मी विलास बैंक 20 लाख खाताधारक हैं, इनको सुरक्षा मिलेगी। खाताधारक अब जितना चाहें अपने पैसा निकाल सकते हैं। उन्होंने कहा कि लक्ष्मी विलास बैंक के 4000 कर्मचारियों की नौकरी भी सुरक्षित रहेगी।

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि RBI ने लक्ष्मी विलास बैंक के डेवलपमेंट बैंक ऑफ इंडिया लिमिटेड में विलय के आदेश दिए हैं। इससे 20 लाख जमाकर्ताओं को राहत मिलेगी। साथ ही 4000 कर्मचारियों की नौकरी भी बरकरार रहेगी। उन्होंने कहा कि सरकार ने आरबीआई से कहा कि है बैंक को डूबने के कगार पर लाने वाले दोषियों को सजा होना चाहिए. उन्होंने बताया कि लक्ष्मी विलास बैंक के बोर्ड को हटा दिया गया है, बैंकिंग सिस्टम की सफाई का यही तरीका है।

जावड़ेकर ने कहा कि आज कैबिनेट ने नेशनल इन्वेस्टमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर फंड में 6000 करोड़ रुपये के निवेश का निर्णय लिया है। साथ ही टेलीकॉम सेक्टर में एटीसी में एफडीआई को भी मंजूरी मिली है। टाटा समूह की कंपनी एटीसी के 12 फीसदी शेयर एटीसी पैसिफिक एशिया ने लिए हैं।