उत्तर प्रदेश के राठौर फिरोजाबाद जिले में यमुना नदी में शव नजर आने के बाद लोगों में डर फैल गई और उन लोगों का कहना था कि यह कोरोना से जान गंवाने वालों की शव हैं। हालांकि, लोगों ने जब इस शव को देख कर काफी आपत्ति जताई तो बिते दिनों प्रशासन के निर्देश पर यमुना नदी में पार्थिव शरीरों के जल समाधि पर रोक लगाए जाने को लेकर एक उच्चस्तरीय बैठक हुआ।

बैठक के दौरान महापौर नूतन राठौर और नगर आयुक्त विजय कुमार के मौजूदगी में पुलिस प्रशासन के निर्देशों के बाद गठित कमेटी ने ठोस कार्य योजना बनाई । बैठक के दौरान फैसला में यमुना की तलहटी से जुड़ी 24 ग्राम पंचायतों में नगर निगम के अधिकारी और पार्षद प्रतिदिन पेट्रोलिंग करेंगे

इसी कड़ी में महापौर नूतन राठौर ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अथवा सामान्य बीमारी से ग्रसित से मरे व्यक्तियों के अंतिम संस्कार के लिए दूसरे जगहों पर व्यवस्था किया गया हैं। साथ ही उत्तर प्रदेश के राठौर फिरोजाबाद जनता से नगर आयुक्त ने आग्रह किया कि यमुना में पार्थिव शरीरों के अंतिम संस्कार नहीं करें।

यह भी पढ़ें: ग़ज़ा-इजरायल के बीच हिंसा को रोकने की कोशिशें तेज,UNSC ने रखा अपना पक्ष

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है