BALAKOT AIRSTRIKE  घर में घुसकर आतंकियों को किया था ढेर

BALAKOT AIRSTRIKE  26 फरवरी का दिन भारत के लिए बेहद खास है। खास इसलिए क्‍योंकि इसी दिन 2019 में भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने पाकिस्‍तान के बालाकोट में आतंकियों के ठिकाने पर ताबड़तोड़ बमबारी की थी। अचानक हुई इस कार्रवाई से पाकिस्‍तान की नहीं बल्कि पूरी दुनिया में हैरान हो गई थी।

BALAKOT AIRSTRIKE  इसमें पहला है कि ये 1971 के बाद पाकिस्‍तान में की गई पहली एयरस्‍ट्राइक थी। दूसरा ये एयरस्‍ट्राइक इसलिए भी याद रखी जाएगी क्‍योंकि इसका एक पहलू विंग कमांडर अभिनंदन वर्थमान की पाकिस्‍तान से सकुशल वापसी भी है। ये वापसी इतनी आसान नहीं थी जितनी पाकिस्‍तान ने दिखाई थी। बल्कि उनकी ये वापसी पाकिस्‍तान के उस डर का परिणाम थी जो उन्‍हें भारत से लगने लगा था।

ELECTRIC CAR सिंगल चार्ज में 200 किलोमीटर की रेंज देगी Strom R3 इलेक्ट्रिक कार

 पुलवामा की सड़क पर खून और जवानों के शरीर के क्षत-विक्षत शव नजर आ रहे थे। भारतीय जवानों का गुस्‍सा उबाल पर था। देश की आम जनता चाहती थी कि इस हमले को अंजाम देने वाले जैश ए मोहम्‍मद के आतंकियों पर इससे भी कहीं जबरदस्‍त हमला कर करारा जवाब दिया जाए। पाकिस्‍तान भी कहीं न कहीं इस बात को जान चुका था कि भातर इस हमले के बाद चुप नहीं बैठने वाला है। यही वजह थी कि पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने टीवी पर प्रसारित एक संदेश में दुनिया को ये संदेश देने की कोशिश की कि इस हमले में पाकिस्‍ताना या पाकिस्‍तान में बैठे किसी भी इंसान का कोई हाथ नहीं है। इस प्रसारण में उन्‍होंने एक बार फिर से आतंकियों को शहीद बताते हुए भारत को भड़का दिया था।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है