सीजेआई ने कहा कि ऐसा लगता है कि अयोध्या मामले की सुनवाई 18 अक्टूबर 2019 तक पूरी हो जाएगी।

अयोध्या मामले पर चर्चा सालों से ही चली आ रही है। इसी मुद्दे को सुलझाने के लिए कई दिनों से सुप्रीम कोर्ट में लगातार सुनवाई चल रही है, और इस मुद्दे पर जल्द ही कोई फैसला आने की उम्मीद भी जताई जा रही थी लेकिन अब ये कुछ महीनों के लिए टल चुकी है। आपको बता दें कि इस मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता में पांच जजों की बीच कि जा रही है।

अयोध्या में राम मंदिर के लिए मुसलमानों के पक्ष में जा रहा है सुप्रीम कोर्ट? पढ़ें सुप्रीम कोर्ट का बयान

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 18 अक्टूबर तक होगा फैसला

आपको बता दें कि दोनों ही पक्षों के वकील राजीव धवन और सीएस वैद्यनाथ द्वारा दी गई टेंटेटिव अवधि को देखने के बाद सीजेआई ने कहा कि ऐसा लगता है कि अयोध्या मामले की सुनवाई 18 अक्टूबर 2019 तक पूरी हो जाएगी। साथ ही सीजेआई ने कहा कि मामले की रोज सुनवाई को देखते हुए ऐसा लग रहा है कि इस मामले में दोनों ही पक्ष 18 अक्टूबर तक अपनी अपनी दलीलें पूरी कर लेगें।

तो चलिए आप को बताते है कि सीजेआई ने इस मामले में क्या कहा

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 18 अक्टूबर तक होगा फैसला

सुनवाई के दौरान सीजेआई ने कहा कि यदि पक्ष मध्यस्थता के जरिए अयोध्या मामला सुलझाने के इच्छुक हैं, तो वे ऐसा कर सकते हैं, उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश एफ एम आई कलीफुल्ला की अगुवाई में तीन सदस्यीय मध्यस्थता पैनल के समक्ष हो रही सुनवाई गोपनीय रहेगी। न्यायालय ने कहा कि अयोध्या मामले की सुनवाई बहुत आगे पहुंच गई है इसलिए रोजाना के आधार पर कार्यवाही जारी रहेगी।

अब होगा अयोध्या पर भी एक ऐतिहासिक फैसला, जानिए क्यों बढ़ाई गई सुरक्षा!

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 18 अक्टूबर तक होगा फैसला

तो अब देखने वाली बात ये है कि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट का क्या फैसला आता है और किसके हित में फैसला आता है। साथ ही आगे की सुनवाई में न्यायालय ने ये भी कहा कि इस मामले में सुनवाई काफी आगे पहुंच चुकी है और जो भी फैसला आएगा वो रोजना हो रही सुनवाई के आधार पर ही होगा।