केंद्र सरकार (central government) और हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक (Bharat Biotech) अन्य कंपनियों को आमंत्रित करने के लिए तैयार हैं, जो कोवैक्सिन (Covaxin) का उत्पादन करने में मदद करना चाहते हैं। एक शीर्ष सरकारी सलाहकार (Government advisor) ने गुरुवार को यह जानकारी दी है। आपको बता दें कि में भारत कोरोनो वायरस (Corono virus) के टीके की कमी से जूझ रहा है।

NITI आयोग के सदस्य Dr. VK Paul ने कहा, “लोग कहते हैं कि Covaxin के निर्माण की जिम्मदेरी अन्य कंपनियों को भी दी जानी चाहिए। मुझे यह कहते हुए खुशी हो रही है कि चर्चा के दौरान Covaxin निर्माण कंपनी (Bharat Biotech) ने इसका स्वागत किया है।”

Dr. VK Paul ने कहा “इस वैक्सीन की मदद से एक जीवित Corono virus को निष्क्रिय कर दिया जाता है। यह केवल BSL3 (Biosafety level) प्रयोगशालाओं में ही तैयार किया जाता है। प्रत्येक कंपनी के पास यह नहीं है। वे कंपनियां जो Covaxin का निर्माण करना चाहती हैं हम उन्हें खुला निमंत्रण देते हैं। इसे एक साथ करना चाहिए। केंद्र सहायता करेगा ताकि क्षमता बढ़ाई जा सके।”

Dr. VK Paul का बयान उस दिन आया जब government ने घोषणा की कि इस साल अगस्त से दिसंबर के बीच Corono virus टीकों की 200 करोड़ से अधिक खुराक बनने की उम्मीद है। आपको बता दें कि विपक्ष लगातार आरोप लगा रहा है कि सरकार ने वैक्सीन योजना (Vaccine scheme) को गलत तरीके से पेश किया था।

government आंकड़ो के अनुसार, भारत में रोजाना 4000 के करीब मरीजों की कोरोना वायरस (Corono virus) के कारण मौत हो रही है। संक्रमण के नए मामले भी बीते दिनों चार लाख के पार कर गए। इस बीच कई राज्यों में टीकों की कमी के बीच एस्ट्राजेनेका वैक्सीन (AstraZeneca Vaccine) की खुराक के बीच के अंतराल को 16 सप्ताह तक बढ़ा दिया गया है। भारत में कोरोना की दूसरी लहर (Second wave) ने विशेषज्ञों की भी चिंता बढ़ा दी है।

भारत जैसे बड़े देश में कोरोना टीकाकरण (Corona vaccination) की रफ्तार फिलहाल धीमी है। इसका प्रमुख कारण है उत्पादन और डिमांड में काफी अंतर है। गुरुवार तक देश में केवल 3.82 करोड़ लोगों को टीके की दूसरी खुराक दी गई है। यह लगभग 135 करोड़ की आबादी का सिर्फ 2.8 प्रतिशत है। Dr. VK Paul ने कहा, “हम सीमित आपूर्ति के दौर से गुजर रहे हैं। पूरी दुनिया इससे गुजर रही है। इस चरण से बाहर आने में समय लगता है।” उन्होंने कहा कि स्पुतनिक Vaccine की कुछ खेप भी देश में आ गई है और उन्हें उम्मीद है कि वे अगले सप्ताह से उपलब्ध होंगी।

यह भी पढ़ें: Corona से अनाथ हुए बच्चों का पालन करेगी सरकार, CM केजरीवाल का दावा दिल्ली में 10000 बेड हुए खाली,

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है