जिसके जवाब में भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में घुसकर एयरस्ट्राइक की थी, उस समय लगातार जवाबी हमलों का दौर चल रहा था।

अभिनंदन जिसका नाम सुनते ही लोगों के जेहन में सिर्फ एक ही बात आती है और वो हैं अभिनंदन के विमान का गलती से पाकिस्तान पहुंच जाना। लेकिन इतने दिन बीत जाने के बाद अब अभिनंदन के विमान की पाकिस्तान में पहुंचने कि सही वजह सामने आई है।

श्रीनगर में NSA अजित डोभाल, महबूबा मुफ्ती ने कसा दौरे पर तंज

आपको बता दें कि 14 फरवरी को पाकिस्तान ने पुलवामा में आतंकी हमाला किया था। जिसके जवाब में भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में घुसकर एयरस्ट्राइक की थी, उस समय लगातार जवाबी हमलों का दौर चल रहा था। 300 लोगों की मौत पर भड़क बैठे पाकिस्तान ने फिर से पाकिस्तान की ओर से भारतीय सीमा में विमान भेजे गए।

Image result for abhinandan varthaman

तो वही भारत के जवानों यानि कि भारतीय वायुसेना ने इन विमानों को खदेड़ दिया था,  लेकिन इस दौरन भारत का एक विमान PoK की ओर गिर गया था। इसी विमान में विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान थे, जिन्हें बहुत ही कम समय में ही पाकिस्तान ने भारत को वापस कर दिया था।

तो चलिए अब हम आपको एक ऐसी वजह बताते हैं जिसके चलते अभिनंदन का विमान पाकिस्तान जा पहुंचा था। विंग कमांडर अभिनंदन के विमान मिग-21 के साथ हुई इस घटना में कंट्रोल रूम की तरफ से भेजे जा रही रेडियो संदेश विमान तक नहीं पहुंच पाए थे। और विमान का रेडियो जाम होने की वजह से ही कंट्रोल रूम के द्वारा भेजे गए मैसेज विंग कमांडर अभिनंदन तक नहीं पहुंच पाए थे। जिसके चलते अभिनंदन को और साथ ही पूरे देश को परेशानी का समाना करना पड़ा था।

तो वही आपको बता दें कि बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद वायुसेना उप-प्रमुख ने केंद्र सरकार को इसकी पूरी रिपोर्ट भेजी थी और पूरे ऑपरेशन को विस्तार से समझाया था। जिसके बाद अब इस पूरे मामले की वजह सामने आई है।

Image result for abhinandan varthaman

इस रिपोर्ट में विस्तार से समझाया गया था, तब क्या हुआ था। और साथ ही इन बातों को भी ध्यान रखा गया था कि भविष्य में इस तरह का हादसा दोबारा ना हो।

अब केंद्र सरकार ने इस मामले में बड़ा कदम उठाया है। रक्षा मंत्रालय की तरफ से एक प्रपोजल को मंजूरी दी गई है, जिसके तहत रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) एक ऐसा सॉफ्टवेयर बनाने पर काम करेगा जिसके तहत लड़ाकू विमान में बैठे पायलट और ग्राउंड पर मौजूद कंट्रोल रूम का रेडियो जाम नहीं होगा।

अब इस देश के राष्ट्रपति ने UN में उठाया कश्मीर का मुद्दा, फिर तेज हुई राजनीतिक सरगर्मी

तो अब सरकार इस हादसे के बाद पूरी तरह से सचेत हो चुकी है कि भविष्य में कभी भी ऐसी गलती ना हो जिससे भारत के किसी भी जवान या किसी भी नगरिक को परेशानियों का सामना करना पड़े।