महाराष्ट्र सरकार में संकट के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ( NCP ) के सबसे बड़े नेता शरद पवार ( Sharad Pawar)  बीमार हो गए हैं। आज उनको अस्पताल ले जाना पड़ा। दरअसल रविवार शाम से ही 80 साल के पवार के पेट में दर्द हो रहा था। दर्द न रुकने पर उन्हें मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल ले जाया गया।

अस्पताल में जांच के दौरा पता चला कि उनके गॉल ब्लेडर में दिक्कत है। डॉक्टरों ने फिलहाल पवार को घर जाने की इजाजत दे दी है, लेकिन 31 मार्च को एंडोस्कोपी और सर्जरी की जाएगी।

एनसीपी के मुखिया शरद पवार ( Sharad Pawar)  को इससे पहले मुंह का कैंसर भी हो चुका है।

किसानों की आय दोगुनी करने के लिए कृषि कानून लागू करना क्‍यों है जरूरी

 

तब डॉक्टर्स ने कह दिया था कि उनके पास केवल 6 महीने का समय ही बचा है। लेकिन मजबूत हौसलों वाले पवार ने कैंसर के खिलाफ लड़ाई लड़कर जीत हासिल की। पवार खुद भी मानते रहे हैं कि मजबूत इरादों के कारण ही वे कैंसर जैसी जानलेवी बीमारी को परास्त कर पाए। उम्मीद है कि अब गाल ब्लैडर की समस्या से भी वो पार पा जाएंगे। लेकिन सबसे बड़ी परेशानी महाराष्ट्र में गृह मंत्री अनिल देशमुख  ( Anil Deshmukh) पर लगे आरोपों के बाद मुश्किल में आई ठाकरे सरकार को लेकर है। अनिल देशमुख पर मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर ने 100 करोड़ की रिश्वत मांगने का आरोप लगाकर सनसनी मचा दी है। इसके बादा विपक्ष लगातार देशमुख के इस्तीफे की मांग कर रहा है। देशमुख को शरद पवार का खास माना जाता है। अगर पवार की तबियत ज़्यादा बिगड़ती है तो महाराष्ट्र सरकार पर भी दबाव पड़ना तय है।