बिहार में covid-19 से हालात पहले से खतरनाक होते जा रहे हैं। इसके साथ ही बिहार सरकार (Government of Bihar) की चुनौतियां काफी बढ़ती जा रही हैं। पिछले 24 घंटों में फिर से 2999 नए लोगों में कोरोना वायरस (covid-19) के संक्रमण की पुष्टि बिहार (bihar) में हुई है। इस संक्रमण से 8 लोगों की मौत भी हो गई। और वहीं सबसे बुरी हालत बिहार के पटना (patna) की है, जहां सबसे ज्यादा 1197 लोग कोरोना वायरस (Coronavirus) के चपेट में आए हैं।

अब बिहार में कोरोना वायरस (covid) के एक्टिव केसों की संख्या बढ़कर 17052 हो गई है। वहीं अगर बिहार के दूसरें जिलों की बात करें तो समस्तीपुर(Samastipur) में 116 , गोपालगंज में 65, अररिया में 30, गया में 184,  बेगूसराय में 102, भागलपुर में 161, भोजपुर में 61, बक्सर में 58 , जहानाबाद में 59, मुंगेर में 54, मुजफ्फरपुर में 141, नालंदा में 91, पूर्णिया में 63, सहरसा में 75,  सारण (Saran) में 67 और सिवान(Siwan)में भी 87 नए कोरोना वायरस (covid-19) के मामले सामने आए हैं।

जैसे-जैसे कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है, वैसे ही राज्य में रिकवरी रेट में भी गिरावट हो रही है। वही बिहार (bihar) की रिकवरी रेट घटकर 93.48 पर पहुंच गया है। स्वास्थ्य विभाग ने सैम्पल जांच (Sample check) में भी काफी तेजी कर दी है और 24 घंटों  में अब तक की सबसे अधिक 80 हजार 18 sample की जांच की गई है। कोरोना वायरस (covid-19) संक्रमित मरीजों में तेजी से बढ़ोतरी होने के बाद अब जहां पारस (Paras), रुबन, समेत सभी निजी Hospitals के बेड फुल हो गए हैं तो वहीं पटना एम्स (Patna AIIMS) में एक भी बेड खाली नहीं है और यहां नए कोरोना वायरस के मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है।

जानें UP में ट्रेन, विमान और बसों से आने वालों के लिए CM Yogi का आदेश

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है