Home India Pakistan में पत्रकारों पर हमले के मामलों में 40 फीसद की बढोतरी

Pakistan में पत्रकारों पर हमले के मामलों में 40 फीसद की बढोतरी

0

Pakistan में पत्रकारों पर हमले के मामलों में 40 फीसद की बढोतरी, इस्लामाबाद में ज्‍यादा घटनाएं में पत्रकारों पर हमले के मामलों में चालीस फीसद की वृद्धि हुई है। विडंबना ये है कि पाक की राजधानी इस्लामाबाद पत्रकारों के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक जगह है। पाकिस्तान फ्रीडम नेटवर्क ने अपनी रिपोर्ट में यह जानकारी दी है। समाचार एजेंसी आइएएनएस के मुताबिक पत्रकारों के साथ होने वाली घटनाओं में आधे से ज्यादा इस्लामाबाद में ही होती हैं। सिंध प्रांत दूसरे नंबर पर है। यहां पर पत्रकारों के उत्पीड़न के 38 केस हैं। पंजाब में भी इतनी ही घटनाएं हुई हैं।

पिछले साल मई से इस साल अप्रैल तक पत्रकारों के साथ 148 घटनाएं हुईं। जिनमें 22 मामलों में पत्रकारों पर प्राणघातक हमला किया गया और छह पत्रकारों की हत्या कर दी गई। उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले ही अमेरिका के विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिकंन ने मानवाधिकार संगठन की रिपोर्ट के हवाले से कहा था कि पाकिस्तान में मीडिया स्वतंत्र नहीं है। यहां मीडिया संस्थानों और पत्रकारों का सुरक्षा बलों और उग्रवादियों दोनों के द्वारा उत्पीड़न किया जाता है।

रिपोर्ट के मुताबिक,Pakistan के प्रधानमंत्री इमरान खान अपने देश में प्रतिबंधित कट्टरपंथी संगठन तहरीक ए लब्बैक के आगे पूरी तरह घुटने टेक चुके हैं। अब इमरान खान कट्टरपंथियों के ईशनिंदा कानून को पूरी दुनिया में लागू करने के एजेंडे को आगे बढ़ाने में लग गए हैं। उनका इरादा है कि इस कानून को पूरी दुनिया में लागू कराया जाए। इसके लिए वह मुस्लिम देशों को लामबंद करने में जुट गए हैं। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि ईशनिंदा के मामले में सभी मुस्लिम देश एक जुट हों। फ्रांस की तरह ईशनिंदा के मामले अगर सामने आते हैं, तो उस देश के साथ व्यापार करने पर पाबंदी लगाई जाए।

यह भी पढ़ें: UP में लॉकडाउन की समय सीमा बढ़ाई गई, गुरुवार सुबह तक…

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है 

Exit mobile version