Corona काल में लड़कियों को आगे बढ़ने का मौका मिल गया है। अब Bihar के इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों में लड़कियों के लिए न्यूनतम एक तिहाई सीटें (33 प्रतिशत) आरक्षित होंगी। CM Nitish Kumar ने बुधवार को इसकी घोषणा की। CM Nitish Kumar ने आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश पदाधिकारियों को दिया है। Bihar में 38 सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज हैं। इसमें कुल 9275 सीटें हैं। वहीं 10 सरकारी मेडिकल कॉलेजों में 1125 सीटें हैं। Nitish Kumar ने कहा कि यह यूनिक चीज होगी।

इससे छात्राएं उच्च और तकनीकी शिक्षा की ओर और ज्यादा प्रेरित होंगी। उन्होंने कहा कि राज्य के सभी जिलों में इंजीनियरिंग कॉलेज खोले जा रहे हैं। कई मेडिकल कॉलेज भी खोले गये हैं। हम लोगों का उद्देश्य है कि Engineering & Medical की पढ़ाई करने के लिए Bihar के बच्चे एवं बच्चियों को बाहर नहीं जाना पड़े। CM के समक्ष एक अणे मार्ग स्थित संकल्प में बुधवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से अभियंत्रण विश्वविद्यालय तथा चिकित्सा विश्वविद्यालय स्थापित करने के संबंध में प्रस्तावित विधेयक का प्रस्तुतीकरण दिया गया। इस मौके पर CM ने उक्त घोषणा की। अगले विधानमंडल के सत्र में यह विधेयक पेश होगा।

विधानमंडल से पारित कर राज्यपाल की सहमति लेकर राज्य में ये दोनों नये विश्वविद्यालय एक्ट को लागू कर दिया जाएगा। Bihar देश का पहला राज्य होगा जहां के इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों में न्यूनतम एक तिहाई सीटें लड़कियों के लिए आरक्षित होंगी। इस तरह महिला सशक्तीकरण के मामले में राज्य देश के समक्ष एक और मिसाल पेश करेगा। इसके पहले प्रारंभिक स्कूल के शिक्षक नियुक्ति, त्रि-स्तरीय पंचायती राज संस्थाओं, राज्य सरकार की सभी नौकरियों आदि में महिलाओं के लिए आरक्षण सबसे पहले Bihar में दिया गया।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है