Mathura का 10 km क्षेत्र तीर्थस्थल हुआ घोषित, इन चीज़ों की बिक्री पर पाबंदी

0
159

अब Mathura और Vrindavan में आप को श्रीकृष्ण जन्मस्थान में बिलकुल अलग अनुभव होगा। दरअसल यूपी की योगी सरकार ने Mathura और Vrindavan में 10 किलोमीटर के क्षेत्र को तीर्थस्थल घोषित कर दिया है।

श्रीकृष्ण जन्मस्थान को केंद्र में रखकर 10 किलोमीटर वर्ग मीटर के क्षेत्र को तीर्थस्थल घोषित किया गया है। वहीं अब इस क्षेत्र में मांस और शराब की बिक्री पर पूरी तरह रोक रहेगी। तीर्थस्थल घोषित किए गए इलाके में नगर निगम के 22 वार्ड हैं। योगी सरकार लगातार तीर्थस्थलों के विकास के काम में लगी है। अयोध्या, वाराणसी, Mathura में सुविधाएं बेहतर की जा रही हैं।

UP में सरकार बनाते ही योगी सरकार ने तीर्थस्थल घोषित करने की कवायद शुरू कर दी थी। अक्तूबर 2017 में कृष्ण की नगरी Vrindavan और राधा की जन्मस्थली बरसाना को तीर्थस्थल घोषित करने की घोषणा हुई थी। यह भी कहा गया था कि सभी सात स्थलों को तीर्थस्थल घोषित किया जाएगा। Vrindavan में हर साल डेढ़ करोड़ तो बरसाना में 60 लाख श्रद्धालु पहुंचते हैं। धर्मार्थ कार्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार उत्तर प्रदेश में अभी सात स्थलों Vrindavan, गोवर्धन, नन्दगांव, बरसाना, गोकुल, महावन एवं बलदेव को तीर्थस्थल क्षेत्र का दर्जा दिया गया है।

CM Yogi इससे पहले जन्माष्टमी के दिन Mathura आए थे और कहा था कि मथुरा के Vrindavan, गोवर्धन, नन्दगांव, बरसाना, गोकुल, महावन एवं बलदेव में जल्द ही मांस और शराब की बिक्री बंद होगी। इन कार्यों में लगे लोगों का अन्य व्यवसायों में पुनर्वास किया जाएगा। Mathura में कृष्णोत्सव कार्यक्रम के दौरान CM Yogi ने कहा कि यहां का भौतिक विकास हो पर आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत को भी बचाए रखना है, क्योंकि यही देशवासियों की पहचान है।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है