देश में इन दिनों उत्तर प्रदेश चर्चा में बना हुआ है। दरअसल उत्तर प्रदेश ने देश में दूध उत्पादन में रिकॉर्ड कायम किया है। राज्य में दूध का उत्पादन लगातार बढ़ता जा रहा है। दूध के उत्पादन बढ़ने से UP में रोजगार को भी बल मिलता दिखाई दे रहा है।

एक सरकारी प्रवक्ता के मुताबिक, UP में दूध उत्पादन 2016-17 में 277.697 लाख मीट्रिक टन था जो कि 2019-20 में बढ़कर 318.630 लाख मीट्रिक टन हो गया। राज्य में पिछले चार साल में 1,242.37 लाख मीट्रिक टन दूध का उत्पादन किया गया है।

डेयरी क्षेत्र में हो रहे निवेश से राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर पैदा हुए हैं। लोग गाय-भैंस का पालन कर दूध का कारोबार करने की ओर लगातार आगे बढ़ रहे हैं। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक उत्तर प्रदेश भारत के कुल दूध उत्पादन का 17 प्रतिशत हिस्सा अपने यहां से देश को भेजता है। बता दें कि पिछले चार साल में अमूल समेत छह बड़ी कंपनियों ने 172 करोड़ रुपए डेयरी प्रोजेक्ट में निवेश किया है। वहीं अन्य सात कंपनियां भी यहां निवेश करने को लेकर आतुर है। इसके अलावा, 15 निवेशकों ने अपनी इकाइयां स्थापित करने की पेशकश की है।

Yogi Adityanath सरकार की ओर से राज्य के सभी जिलों में गाय संरक्षण केंद्रों की स्थापना के लिए 272 करोड़ रुपये की मंजूरी दी गई है। सरकार के इस कदम से बेसहारा और लावारिस गायों के संरक्षण और रख-रखाव के लिए व्यापक प्रबंध किए गए हैं। बता दें कि दूसरे नंबर पर राजस्थान है जबकि तीसरे नंबर पर आंध्र प्रदेश है।

राज्य में दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए सरकार भी तैयार दिख रही है। राज्य सरकार की ओर से दुधारू पशुओं को संरक्षण और ग्रीनफील्ड डेयरियां स्थापित की जा रही है। अधिकारियों ने बताया कि UP के कानपुर, लखनऊ, वाराणसी, मेरठ, बरेली, कन्नौज, गोरखपुर, फिरोजाबाद, अयोध्या और मुरादाबाद जिलों में ग्रीनफील्ड डेयरियां स्थापित की जा रही हैं। वहीं झांसी, नोएडा, अलीगढ़ और प्रयागराज में चार पुरानी डेयरियों को अपग्रेड किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: यूपी के पूर्व CM Kalyan Singh का 89 साल की उम्र में निधन

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है