Ganesh Chaturthi 2022 : करवाना है लक्ष्मी जी का वास तो घर में लाएं इस चीज़ से बनी ‘गणेश प्रतिमा’

0
1795

त्योहारों का मौसम आने लगा है। 31 अगस्त को Ganesh Chaturthi मनाई जाएगी। हमेशा की तरह इस बार पर्यावरण को नुकसान न पहुंचाने पर ज़ोर दिया जा रहा है। इस बार की Ganesh Chaturthi हर बार से थोड़ी अलग है। Coronavirus के चलते लोगों को भीड़ लगाने से मना किया गया है। इसलिए कोशिश कीजिए की इस बार घर पर परिवार से साथ ही ये पर्व मनाए।

अलग अलग साइज़ की Ganesh ji की प्रतिमा आपको बाज़ार में दिख जाएंगीं। लेकिन सबसे खास प्रतिमा किस चीज़ की बनी होती है ये बात ज़्यादातर लोग नही जानते हैं। दरअसल देसी गाय के गोबर से बनी प्रतिमा को हमेशा से खास माना जाता है।

गोबर के Ganesh ji को सबसे अधिक शुद्ध माना जाता है। पहले Ganesh ji की प्रतिमाओं को माता बहनें अपने घरों में गाय के गोबर से बनाती थीं, लेकिन बदलते वक़्त के साथ रेडीमेड कार्य प्रचलन में है। इसलिए लोग पीओपी की प्रतिमाएं लेकर आते हैं। मान्यता है कि 6 इंच तक की प्रतिमाओं को घर के अंदर स्थापित किया जा सकता है।

घर में कराना है लक्ष्मी जी का वास तो करें ये काम

शास्त्रों में बताया गया है कि देसी गाय के गोबर में लक्ष्मीजी का वास होता है, इसलिए मान्यता है कि गोबर के Ganesh ji को घर में विराजमान करने से लक्ष्मीजी का वास घर में होता है। साथ ही गाय के गोबर से खाद भी बनती है। सबसे बड़ी बात ये है कि गोबर से बनी Ganesh प्रतिमाओं को हम घर के अंदर किसी गमले आदि में भी विसर्जित कर सकते हैं। इससे गमलों में भी खाद मिलेगी और पर्यावरण भी सुरक्षित रहेगा।

गोबर से इस तरह बनाए Ganesh प्रतिमा

गोबर की Ganesh प्रतिमा बनाने में काफी समय लगता है। पहले गोबर को सूखाकर बारीक पीसा जाता है। इसके बाद उसमें ग्वार गम, गोंद मिलाई जाती है। इसके बाद प्रतिमाओं को आकार दिया जाता है। अगर जरा भी गड़बड़ हो जाए तो सारा सामान खराब हो जाता है। क्योंकि एक बार प्रतिमा बिगड़ जाने के बाद उसे फिर से नहीं बनाया जा सकता।

यह भी पढ़ें – ये है वो कारण जिसकी वजह से आपके पास नही रुक पाता है ‘धन’

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है