काश!PM Modi के पास नोटबंदी वाले फैसले को रद्द करने का भी कोई तरीका होता: Jairam Ramesh

0
141

किसानों की जीत पर आज विपक्ष बेहद ख़ुश नज़र आ रहा है। PM Modi के तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने के फैसले के बाद देशभर से प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता Jairam Ramesh ने PM Modi को ‘हे़डलाइनजीवी’ कहते हुए संबोधित किया और कहा कि काश ‘हे़डलाइनजीवी’ के पास 8 नवंबर 2016 के फैसले को भी रद्द करने का कोई तरीका होता।

इस साल की शुरुआत में संसद की कार्यवाही के दौरान PM Modi ने विरोध करने वालों के लिए ‘आंदोलनजीवी’ शब्द का प्रयोग किया था। बता दें कि करीब एक साल पहले किसानों के मुद्दे पर सरकार की ओर से पलटवार करते हुए PM Modi ने संसद की कार्यवाही के दौरान प्रदर्शनकारियों को ‘आंदोलनजीवी’ कहा था। PM Modi ने कहा था, “हाल के दिनों में लोगों का एक नया वर्ग उभरा है जो सभी आंदोलनों और विरोधों में देखा जा सकता है। ये आंदोलन जीव हैं। राज्य मुझसे सहमत होंगे क्योंकि वे भी इसका सामना कर रहे हैं।”

19 नवंबर को देश को संबोधित करते हुए PM Modi ने कहा कि सरकार संसद के शीतकालीन सत्र में कृषि कानूनों को निरस्त करने की प्रक्रिया शुरू करेगी, जो 29 नवंबर से शुरू होने की संभावना है। छोटे किसानों को सशक्त और मजबूत करने के लिए कानून लाए गए थे लेकिन यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि सरकार किसानों के एक वर्ग को सुधारों के लाभों के बारे में नहीं समझा सकी।

इस फैसले को उत्तर प्रदेश और पंजाब में चुनाव से पहले प्रदर्शन कर रहे किसानों की जीत और भाजपा के मास्टरस्ट्रोक के रूप में देखा जा रहा है। इस पर देशभर के विभिन्न पार्टियों के नेताओं की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही है। इसी कड़ी में वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री Jairam Ramesh ने ट्वीट करते हुए PM Modi पर तंज कसा है। उन्होंने लिखा, “पहले संसद में बुलडोज कानून। फिर अभूतपूर्व विरोध का सामना किया। उसके बाद उत्तर प्रदेश और पंजाब में चुनाव से पहले वास्तविकताओं का सामना करते हुए अंत में निरस्त किया। इसमें निश्चित ही किसानों की जीत हुई है। मैं हमारे किसानों के परिश्रम को सलाम करता हूं जिन्होंने आखिर तक हार नहीं मानी।”

फिर इस ट्वीट को रिट्वीट करते हुए Jairam Ramesh लिखते हैं, “काश हेडलाइनजीवी के पास 8 नवंबर 2016 के फैसले को निरस्त करने का कोई तरीका होता। यह वास्तव में एक क्रूर चाल थी, जिसकी कीमत देश आज भी चुका रहा है।”

यह भी पढ़ें – आने वाली पीढ़ियां किसानों की एकता और संघर्ष को याद रखेंगी: CM Kejriwal

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है