टेलीकम्युनिकेशन सोवाओं में होगा सुधार

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन एक बार फिर से इतिहास रचने को तैयार है। आज इसरो पीएसएलवी-सी50 के जरिये संचार उपग्रह सीएमएस-01 को लांच करेगा। इसरो ने बताया कि सैटेलाइट को पीएसएलवी-सी50 रॉकेट में स्थापित करने के बाद 25 घंटे लंबा काउंटडाउन शुरू कर दिया गया। बृहस्पतिवार को दोपहर 3.41 बजे सैटेलाइट को चेन्नई से 120 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के दूसरे लांच पैड से रवाना कर दिया जाएगा।

आपको बता दे कोरोना काल में इस साल इसरो का यह दूसरा मिशन है। साथ ही पीएसएलवी का यह 52वां मिशन होगा। सीएमएस-01 इसरो का 42वां संचार उपग्रह है। यह सेटेलाइट आपके मोबाइल फोन से लेकर टीवी तक के सिग्नलों का स्तर सुधारने का काम करेगी। यह देश की मुख्य भूमि के साथ-साथ अंडमान-निकोबार और लक्षद्वीप द्वीप समूहों को एक्सटेंडेड सी-बैंड की सेवाएं उपलब्ध कराएगा।

सीएमएस-01 सैटेलाइट की वजह से टेलीकम्युनिकेशन सेवाओं में सुधार होगा। इसकी मदद से टीवी चैनलों की पिक्चर क्वालिटी सुधरने के साथ ही सरकार को आपदा प्रबंधन के दौरान मदद मिलेगी। यह सैटेलाइट 2011 में लांच की गई जीसैट-2 टेलीकम्युनिकेशन सैटेलाइट की जगह लेगी। आपको बता दे सीएमएस-01 अगले सात साल तक सेवाएं देगी। यह पीएसएलवी की ‘एक्सएल’ कांफिगरेशन में  22वीं उड़ान होगी।

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है