Hijab Controversy : जजों के मतभेद से Hijab पर अटका मामला, अगली तारीख तक इंतज़ार

0
214

कुछ वक़्त से Hijab एक ऐसा टॉपिक बन गया है जिसको सुनते ही लोग अपनी अपनी राय देने लगते हैं। कुछ लोग कहते हैं Hijab बेहद ज़रूरी है तो कुछ लोग कहते हैं कि इसे हमेशा के लिए हटा देना चाहिए तो वहीं कुछ लोगों का मानना है कि जिसे Hijab पहनना है वो पहने और जिसे नहीं पहनना है वो न पहने। जिस तरह कपड़े पहनने का अधिकार हर इंसान के पास है कि वो कुछ भी पहने, ऐसे ही Hijab के लिए भी होना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार(13 अक्टूबर) को जजों की अलग-अलग राय ने Hijab मामले को विस्तार दे दिया है। फिलहाल, साफ नहीं हो पाया है कि Hijab पर अंतिम स्थिति क्या होगी।

कोर्ट ने यह मामला बड़ी बेंच के सामने रखने का फैसला कर लिया है, लेकिन अभी सुनवाई की तारीख का ऐलान नहीं हुआ है। अब सवाल है कि आगे क्या?

बेंच की अगुवाई कर रहे जस्टिस गुप्ता ने मतभेद की बात कही। वहीं, जस्टिस धूलिया ने कहा कि हाईकोर्ट ने गलत रास्ता अपनाया है और अंत में Hijab पहनना अपनी पसंद का मामला है। उन्होंने आर्टिकल 19(1)(a) और 25(1) का हलावा दिया। जस्टिस गुप्ता ने अपने फैसले में कर्नाटक हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ दायर याचिकाओं को खारिज कर दिया था। इससे उलट जस्टिस धूलिया ने सभी अपीलों को स्वीकार किया।

शीर्ष न्यायाल ने करीब 10 दिनों तक सुनवाई के बाद याचिकाओं पर 22 सितंबर को फैसला सुरक्षित रख लिया था। 15 मार्च को कर्नाटक के उडुपी की कुछ छात्राओं ने कक्षाओं में Hijab पहनने की अनुमति के लिए कर्नाटक हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसे खारिज कर दिया गया था।

यह भी पढ़ें – ख़ुद से न खाएं दवाई, कई कंपनियों की Paracetamol टेस्ट में फेल

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है