मौत कहिए या Coronavirus एक ही बात है। जिस तेज़ी से ये Virus अपनी पकड़ मज़बूत कर रहा है उसे देखकर ये कहा जा सकता है कि मौत घूम रही है न जाने कौन कब इसकी चपेट में आ जाए। Corona का Virus Lungs को संक्रमित करने के साथ ही खून को गाढ़ा कर रहा है। संक्रमितों में D-dimer protein तेजी से बढ़ रहा है। इससे खून का थक्का बन रहा है। खून गाढ़ा होने पर बन रहे थक्के दिल का दौरा पड़ने की वजह बन सकते हैं। इससे Brain Stroke व Lungs की धमनी में अवरोध समेत कई बीमारियां हो सकती हैं।

गंभीर बात यह है कि संक्रमितों के साथ ही संक्रमण से उबर चुके लोगों के खून में भी D-dimer बढ़ा हुआ मिला है। कहना बिल्कुल भी गलत नहीं होगा कि ये Virus संक्रमण शरीर के अंदर उथल-पुथल कर रहा है। फेफड़े के बाद इसका सबसे ज्यादा असर खून पर हो रहा है। आमतौर पर Home Isolation में रहने वाले संक्रमित इसको लेकर अनजान होते हैं। वह खून की जांच नहीं कराते। ऐसे में निगेटिव होने बाद भी उनका ऑक्सीजन लेवल गिर जा रहा है।

फिजीशियन के मुताबिक संक्रमण खत्म होते ही ज्यादातर लोग यह मान लेते हैं कि वे पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके हैं। यह सही नहीं है। Virus शरीर में कई दुष्प्रभाव छोड़ता है। यह खून को गाढ़ा कर देता है। इससे खून में थक्के बनते हैं। जिससे  Heart Attack, लकवा, फेफड़े की धमनी में अवरोध समेत कई बीमारियां हो सकती हैं। थक्का बनने की पहचान खून में D-dimer नामक प्रोटीन बढ़ने से होती है।

Corona से डरकर विदेश भाग रहे Celebs पर भड़के यूजर्स ने कही ये बात

फिजीशियन के मुताबिक मध्यम या गंभीर रूप से Corona संक्रमित होने वाले 20 से 30 फीसद मरीजों में स्वस्थ होने के बाद भी D-dimer protein तय मात्रा से 5 गुना तक ज्यादा मिल रहा है। Home Isolation में रहने वाले 30 फीसदी संक्रमितों में ऐसा मिल रहा है।

डॉक्टर ने ये भी बताया कि कई ऐसे मरीज भी मिल रहे हैं, जिन्हें कोई लक्षण नहीं हैं। फेफड़े का सीटी स्कैन सामान्य मिला लेकिन D-dimer तीन से पांच गुना तक बढ़ा रहता है। ज्यादा थकान, मांसपेशियों में दर्द और सांस फूलना D-dimer बढ़ने का संकेत हो सकता है। इलाज के लिए खून पतला करने की दवाएं दी जाती हैं।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है