Corona का तत्काल कोई इलाज नहीं, सालों तक नहीं हो पाएगा खत्म: WHO

0
46

हालात कैसे भी हों लेकिन Corona virus से राहत मिलने के फ़िलहाल कोई आसार नहीं हैं। WHO के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि Corona virus से जल्दी छुटकारा पाना संभव नहीं है। अधिकारी के अनुसार इस संदर्भ में टीकाकरण रणनीति के पुनर्गठन की तत्काल जरूरत है।

WHO के यूरोप मामलों के प्रमुख हांस क्लूग ने Corona virus महामारी को नियंत्रित करने के प्रयासों के परिणामों पर निराशा जाहिर की है। उनका मानना ​​​​है कि वायरस का कोई तत्काल इलाज नहीं है, क्योंकि वायरस के नए वेरिएंट हर्ड इम्युनिटी को हासिल करने की उम्मीदों को धराशायी करते हैं। क्लूग ने साफ कर दिया है कि अब यह स्पष्ट हो रहा है कि आने वाले कई वर्षों तक Corona virus मौजूद रहेगा। उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के स्वास्थ्य अधिकारियों को वर्तमान टीकाकरण कार्यक्रमों और प्रक्रियाओं की समीक्षा करने और संयुक्त राष्ट्र की जरूरतों के संदर्भ में भविष्य की प्राथमिकताओं को निर्धारित करने के लिए रणनीति पर सोचना होगा।

WHO के निदेशक ने इस साल मई में कहा था कि जब टीकाकरण 70 प्रतिशत तक पूरा हो जाएगा तो ज्यादातर देशों में Corona virus महामारी खत्म हो जाएगी। जाहिर तौर पर ऐसा नहीं हुआ है और Covid -19 की वर्तमान नई लहर एक खतरा बनी हुई है। स्थिति बदल गई है मई में दिए गए विश्व स्वास्थ्य संगठन के बयान के बारे में पूछे जाने पर क्लूग ने कहा कि जमीनी हकीकत ने अब अतीत की स्थिति को पूरी तरह से बदल दिया है। क्लूग के मुताबिक डेल्टा और दूसरे वेरिएंट को लेकर फिलहाल कुछ नहीं कहा जा सकता है।

WHO के वरिष्ठ अधिकारी ने यह भी कहा कि यह बीमारी जल्द खत्म होने वाली नहीं है और यह फ्लू जैसी बीमारी बनी रहेगी। वैक्सीन रणनीति को बदलने की जरूरत क्लूग का कहना है कि मौजूदा स्थिति में टीकाकरण की रणनीति में बदलाव की जरूरत है ताकि इसकी प्रभावशीलता दोगुनी हो सके। इसी तरह संक्रामक और महामारी विज्ञानियों को लगता है कि वायरस के प्रसार को रोकने के लिए घनी आबादी वाले क्षेत्रों में लोगों की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए अकेले टीकों की आपूर्ति पर्याप्त नहीं है।

WHO का कहना है कि उच्च टीकाकरण महत्वपूर्ण है क्योंकि यह स्वास्थ्य प्रणाली को बीमार लोगों के बोझ से बचा सकता था। क्लूग का कहना है कि स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली न केवल Covid-19 के रोगियों के लिए है बल्कि कई अन्य बीमारियों के पीड़ितों की देखभाल और उपचार के लिए भी है। भारत में मिला डेल्टा वेरिएंट एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में 60 प्रतिशत तेजी से फैलता है। अब कोलंबिया में मिला म्यू वेरिएंट चिंता पैदा कर रहा है। इस वेरिएंट को पहली बार जनवरी 2021 में कोलंबिया में पहचाना गया था।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है