कोरोना वायरस का खतरा अब और भी भयावह होता जा रहा है. पहले मास्क और दो गज की दूरी को लेकर चेताया जा रहा था लेकिन अब केंद्र सरकार के वैज्ञानिक सलाहकार के. विजय राघवन के तरफ से जारी नई गाइडलाइंस के तहत अगर कोई भी व्यक्ति छींकता या खांसी करता है तो उससे संक्रमित व्यक्ति से वायरस तकरीबन 10 मीटर तक पहुंच सकती है

कोरोना संक्रमण को लेकर जारी नए नियमों के तहत किसी भी कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति अगर छींकता है तो उसके छींक से निकले कण लगभर 10 मीटर तक पहुंच सकती है। छींक कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर जारी की गई उसी के जरिए किसी भी कोविड संक्रमित व्यक्ति की छींक और खांसी वायरस के फैलने का सबसे ज्यादा अहम है। आगे बताया गया कि खांसी व छींक के जरिए कोरोना वायरस हवा में 10 मीटर दूर तक जाने की संभावना है।

इसी कड़ी में मास्क तो जरुरी है ही और उसके साथ अब सोशल डिस्टेंसिंग काफी ज्यादा महत्वर्पूण है। कोरोना संक्रमण से मात्र एक यही बचाव है। इसके साथ ही अगर किसी किसी कोरोना संक्रमित मरीज जिसको कोई लक्षण नहीं भी है अगर वह भी छींकता या खांसी करता है तो उससे भी संक्रमण फैलने की संभव बन सकती है। और संक्रमित व्यक्ति के छींक से जो कण निकलता है उससे ज्यादा वायरस फैलने का कारण बन जाता है। वही आपको बता दें कि भारत में कई ऐसे राज्य है जहां सड़कों पर थूकना मना है।

यह भी पढ़ें: क्या ब्लैक फंगस ले रहा है महामारी की शक्ल ?

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है