फाइनल में पूनिया को 86 किग्रा भार वर्ग में ईरान के हसन याजदानी से मुकाबला करना था।

विश्व कुश्ती चैंपियनशिप से भारत के लिए एक और बूरी ख़बर आई है। भारत के युवा पहलवान दीपक पूनिया चोट के चलते विश्व कुश्ती चैंपियनशिप के फाइनल में नहीं उतर पाए। जिसके चलते भारत का गोल्ड मेडल जीतने का सपना टूट गया और पूनिया को रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा। फाइनल में पूनिया को 86 किग्रा भार वर्ग में ईरान के हसन याजदानी से मुकाबला करना था।

Related image

इससे पहले सेमीफाइनल में दीपक पूनिया ने स्विट्जरलैंड के स्टेफन सेइचमुच को 8-2 से हराकर फाइनल में जगह बनाई थी। भले ही पूनिया गोल्ड मेडल न जीत पाए हो लेकिन वो पहले ही ओलंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुके है। पीटीआई से दीपक पूनिया ने कहा, मेरे बाएं पैर में चोट है। इस हाल में मुकाबले के लिए उतर पाना मुश्किल है। मुझे पता है कि ईरानी पहलवान के खिलाफ लड़ने का एक बड़ा मौका मेरे हाथ से निकल गया।’

विश्व कुश्ती चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने वाले एकमात्र भारतीय खिलाड़ी दीपक पूनिया यदि गोल्ड मेडल जीत जाते तो भारत की ओर से ऐसा करने वाले वह दूसरे पहलवान होते। आपको बता दें कि इससे पहले विनेश फोगाट, बजरंग पूनिया और रवि कुमार दहिया टोक्या ओलंपिक के लिए कोटा हासिल कर चुके हैं।