आखिर क्यों कातिल बन रहे हैं रिश्तें?

0
394
आखिर क्यों कातिल बन रहे हैं रिश्तें?

सवाल वहीं पूराना आखिर क्यों? आखिर क्यों खत्म हो रही है इंसानियत? आखिर क्यों हैवान बनता जा रहा है इसांन? आखिर क्यों हो रहा है रिश्तों का खून?

सवाल वहीं पूराना आखिर क्यों? आखिर क्यों खत्म हो रही है इंसानियत? आखिर क्यों हैवान बनता जा रहा है इसांन? आखिर क्यों हो रहा है रिश्तों का खून? आखिर क्यों बेटा पिता का और भाई बन जाता है हत्यारा भाई का?

रक्षाबंधन पर भाई ने किया भाई-बहन के रिश्ते को शर्मसार…

बागपत के दौघट थाना इलाके से फिर यही सवाल उठकर सामने आया जहां एक भाई ने अपने ही भाई की हत्या कर दी। एक परिवार बिखर गया है। एक बेटा इस दूनिया से अलविदा कह गया और दूसरा हत्यारा बन गया। मामूली विवाद से शुरू हुआ झगड़ा हत्या में तब्दील हो गया। देखते ही देखते एक भाई ने भाई का खून कर दिया। दरअसल दाह गांव के रहने वाले तीर्थपाल सिंह का छोटा बेटा शराब के नशे में धुत घर पहूंचा। घर की चौखट पर हंगामा करने लगा, माता-पिता से झगड़ने लगा। फिर क्या था घर में मौजूद बड़े बेटे को यह सब अच्छा नहीं लगाया और वो भाई को रोकने लगा।

आखिर क्यों कातिल बन रहे हैं रिश्तें?

फिर वो हुआ जिसकी कल्पना भी परिवार के किसी सदस्य ने कभी सपने में भी नहीं की थी। गोली की जोरदार आवाज और बिखर गया एक परिवार। हर कोई हैरान था अचानक यह सब क्या हो गया! गोली की आवाज से सन्नाटा पसर गया। बड़े भाई का कुछ कहना छोटे भाई को इतना नागवार गुजरा की उसने गुस्से में अपने बड़े भाई की कनपटी पर तमंचा सटा दिया और चला दी, भाई के खूबसूरत से रिश्ते पर गोली। गोली चलाने के बाद हत्यारा भाई मौके से फरार हो गया और बड़े भाई ने तड़प-तड़प कर मौके पर ही दम तोड़ दिया।सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और फरार भाई की तलाश में शुरू कर दी है।

आखिर क्यों ? जी हां आखिर क्यों एक भाई ने किया भाई का खून? क्या अपने भाई को कुछ गलत करने से रोकना इतना बड़ा गुनाह है कि उसकी सजा मौत हो? आखिर क्यों आजकल लोगों में गुस्सा इस कदर सवार हो गया है कि सामने एक रिश्ता खड़ा होता और गोली चल जाती है। आखिर क्यों?

हॉस्टल में नहाने के पानी की थी कमी, प्रिंसिपल ने किया फिर ये काम…