विदिशा मैत्रा ने एक-एक कर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के झूठ को दुनिया के सामने ला दिया।

 विदिशा मैत्रा ने एक-एक कर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के झूठ को दुनिया के सामने ला दिया।

जहां अपने अमेरिका दौरे में पीएम मोदी ने पाकिस्तान को हर मंच से धोया और दुनिया को भारत की असली ताकत से मिलाया तो वहीं दूसरी ओर संयुक्त राष्ट्र में एक बार पाकिस्तान को आईना दिखाया विदिशा मैत्रा ने। संयुक्त राष्ट्र में भारत की प्रथम सचिव विदिशा मैत्रा ने एक-एक कर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के झूठ को दुनिया के सामने ला दिया। इमरान खान के झूठ को बेनकाब करने की जिम्मेदारी भारत ने संयुक्त राष्ट्र में अपनी सबसे नई ऑफिसर विदिशा मैत्रा को दी। विदिशा मैत्रा संयुक्त राष्ट्र में भारत की प्रथम सचिव हैं और यूएन मिशन में वो भारत की सबसे नई अधिकारी हैं।

पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की संख्या 23 फीसदी से घटकर 3 फीसदी रह गई है।

 इमरान का भाषण बंदूकों के अवैध कारोबार की याद दिलाता है।

विदिशा मैत्रा ने संयुक्त राष्ट्र में भारत के जवाब देने के अधिकार का इस्तेमाल करते हुए पाकिस्तान की धज्जियां उड़ा दीं। विदिशा ने पूछा कि क्या इमरान खान इस बात से इनकार कर सकते हैं कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा आतंकी करार दिए गए 130 दहशतगर्द और 25 संगठन पाकिस्तान में रहते हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान दुनिया का एकमात्र ऐसा देश है, जो संयुक्त राष्ट्र द्वारा आतंकी करार दिए गए शख्स को पेंशन देता है। उन्होंने कहा कि मानवाधिकारों की आवाज बुलंद करने का दावा करने वाले पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की संख्या 23 फीसदी से घटकर 3 फीसदी रह गई है।

इमरान का भाषण बंदूकों के अवैध कारोबार की याद दिलाता है।

Image result for इमरान का भाषण बंदूकों के अवैध कारोबार की याद दिलाता है।

इससे पहले इमरान खान ने शुक्रवार को दिए अपने भाषण में कहा था कि कश्मीर के हालात देखकर दुनिया में मौजूद 130 करोड़ मुस्लिम चरमपंथी हो जाएंगे। कश्मीर में होता तो मैं भी बंदूक उठा लेता, वहां कर्फ्यू हटते ही रक्तपात होगा।इमरान के इसी बयान पर विदिशा मैत्रा ने कहा कि जेंटलमैन गेम खेलने वाले इमरान का भाषण बंदूकों के अवैध कारोबार की याद दिलाता है।