सुबह उठते ही मोबाइल यूज करना आपको पडेगा महंगा, अगर आप ऐसा करते हैं तो हो जाइए सावधान!

0
16

सोने के बाद अगले दिन उठने पर एक ही चीज के बारे में सोचने की वजह से इंसान का स्ट्रेस और ऐंग्जाइटी लेवल बढ़ जाता है।

आज के वक्त में मोबाइल हर इंसान की जरूरत बन गया है। सड़क पर चलने से लेकर खाने तक हर समय लोग मोबाइल में ही लगे रहते हैं। वह किसी भी वक्त मोबाइल को अपने से दूर नहीं होने देते। यही वजह है कि लोग सोने से पहले और सुबह उठते ही सबसे पहले मोबाइल को यूज करते हैं। जो कि हमारी सेहत के लिए अच्छा नहीं है। जी हां, सुबह उठते ही सबसे पहले मोबाइल चेक करना हमारी सेहत के लिए अच्छा नहीं है।

इन बामारियों को दूर करने के लिए खूब खाइए फल

एक सर्वे में ये बात सामने आई है कि सुबह जागते ही सबसे पहले मोबाइल यूज करने पर दिन की शुरूआत ही स्ट्रेस से होती है, जो दिमाग के वर्किंग प्रोसेस पर असर डालते हुए कार्यक्षमता पर असर डालता है। बता दें, ये सर्वे यूके में करीब 2000 लोगों पर किया गया है। जानकारों का कहना है कि जब इंसान सुबह जागते ही सबसे पहले मोबाइल पर मेल या कोई मैसेज चेक करता है तो उसका दिमाग उन्हीं विचारों से भर जाता है, जिस वजह से इंसान किसी अन्य चीज के बारे में अच्छे से नहीं सोच पाता।

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, सोने के बाद अगले दिन उठने पर एक ही चीज के बारे में सोचने की वजह से इंसान का स्ट्रेस और ऐंग्जाइटी लेवल बढ़ जाता है। वैसे ही सुबह के वक्त बीपी बढ़ा हुआ होता है ऐसे में तनाव उसे और बढ़ा सकता है जो हमारे लिए खतरनाक साबित हो सकता है। वहीं जब व्यक्ति अगले दिन सुबह उठकर मेल या नोटिफिकेशन चेक करता है तो वह बीते दिन की घटनाओं के बारे में पढ़ रहा होता है। इसका असर ये होता है कि व्यक्ति के प्रजेंट को पास्ट हाइजैक कर लेता है और इंसान नए दिन को नए तरीके से जीने की जगह बीते हुए दिन के मुताबिक ही उसे जीता है।

मलेरिया की दवाओं से कैंसर का इलाज संभव!

सर्वे में ये बात भी सामने आई है कि ऐसा करने से एकाग्रता में कमी आती है। और इसका असर हमारे रोजाना के कामों पर भी पड़ता है। जानकारों का मनना है कि सुबह के वक्त उठने के बाद हमें मोबाइल पर मेल या नोटिफिकेशन चेक करने की जगह म्यूजिक सुनना चाहिए। जिससे हमारा दिमाग रिलैक्स होता है।