छोटा सा दिखने वाला मच्छर एक व्यक्ति का काफी नुकसान कर सकता है। एक मच्छर एक बार में व्यक्ति का 0.1 मिलीमीटर तक खून चूस लेता है।

20 अगस्त यानी आज का दिन। आज ही के दिन 1897 में ब्रिटिश डॉ रोनाल्ड रॉस ने इस बात का पता लगाया था कि मलेरिया मच्छर के काटने से होता है। इसलिए आज के दिन को हर साल विश्व मॉस्किटो डे के तौर पर मनाया जाता है। तो आज हम आपको मच्छर दिवस के इस मौके पर मच्छर से होने वाली बीमारियों के बारे में बताते हैं।

नींद से जुड़ी इस बीमारी को हल्के में ना लें, हो सकता है कैंसर

विश्व मॉस्किटो डे- बर्बादी का कारण बन सकता है एक छोटा सा मच्छर, समय रहते करें ये उपाय

बारिश के मौसम में जगह-जगह पर पानी भर जाने से हर तरफ मच्छर पनपने लगते हैं। चारों तरफ मच्छर होने की वजह से बीमारियां भी बढ़ने लगती हैं। मच्छरों से डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसी गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। जो आपकी सेहत के लिए बेहद खतरनाक हैं। हर साल इन बीमारियों से बड़ी संख्या में लोग प्रभावित होते हैं। सरकार द्वारा भी इनसे निपटने के लिए अभियान चलाए जा रहे हैं। लेकिन लोगों की लापरवाही के चलते मच्छरों से होने वाली बीमारियां बढ़ती जा रही हैं।

आपको बता दें, छोटा सा दिखने वाला मच्छर एक व्यक्ति का काफी नुकसान कर सकता है। एक मच्छर एक बार में व्यक्ति का 0.1 मिलीमीटर तक खून चूस लेता है। काफी पहले से लोग कहते आये हैं कि जितना किसी आपदा और अन्य बीमारी ने किसी इंसान को नुकसान नहीं पहुंचाया उससे कहीं ज्यादा एक छोटे से मच्छर ने पहुंचाया है। मच्छर के काटने से मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया जैसी गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। इन बीमारियों की वजह से किसी को भी अपनी जान से हाथ धोना पड़ सकता है।

पेट दर्द को हल्के में ना लें, हो सकती है ये गंभीर बीमारी

आपको ये बात जानकर हैरानी होगी कि हर साल मच्छर से होने वाली बीमारियों की वजह से लाखों लोगों की जान चली जाती है। जिसमें सबसे ज्यादा मौतें अफ्रीकी देशों में होती हैं। अगर आपको मच्छर से होने वाली बीमारियों से बचना है तो साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखें। और अपने आस-पास गंदगी या पानी जमा ना होने दें। जिन फलों में विटामिन की अधिकाता हो उन्हीं फलों को सेवन करें। और डॉक्टर से समय-समय पर सलाह लेते रहें।