हाल ही में डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया या स्वाइन फ्लू इतना परेशान नहीं कर रहा है जितना यह एक नई बीमारी कहर मचा रही है। सभी बीमारियों से भी घातक स्क्रब टाइफस का एक मरीज मिला है।

जलवायु परिवर्तन, गंदगी और कुछ और कारणों की वजह से हर साल हम कई तरह की बीमारियां झेलते हैं। हर साल डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया जैसी बीमारियों का कहर देखने को मिलता है। रही सही कसर स्वाइन फ्लू पूरी कर देता है। हर साल ना जाने कितनी मौतें इन बीमारियों के चलते हो जाती है। सरकार भी इन बीमारियों से लोगों को बचाने के लिए पूरी कोशिश करती है लेकिन हर साल फिर भी न जाने कितने लोग जिंदगी की जंग हार जाते हैं।

अगर आप भी ऑफिस में 9 घंटे से ज्यादा बैठकर काम करते हैं तो हो जाइए सावधान, जान को है खतरा

सभी बीमारियों से भी घातक स्क्रब टाइफस का एक मरीज मिला है।हाल ही में डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया या स्वाइन फ्लू इतना परेशान नहीं कर रहा है जितना यह एक नई बीमारी कहर मचा रही है। सभी बीमारियों से भी घातक स्क्रब टाइफस का एक मरीज मिला है। जानकारी के लिए बता दें कि गाजियाबाद में शास्त्री नगर निवासी एक महिला की इस बीमारी के चलते मौत हो गई है। डॉक्टरों की मानें तो इस बीमारी के चलते गाजियाबाद में यह पहली मौत है।

अब तक मिली जानकारी के मुताबिक शास्त्री नगर में रहने वाली शोभा की तबीयत अचानक बिगड़ी तो उसे गार्गी अस्पताल में भर्ती कराया गया। तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर उसे यशोदा अस्पताल में भर्ती कराया गया। यशोदा अस्पताल में 3 दिन आईसीयू में रखने के बाद भी शोभा की तबीयत में ज्यादा आराम नहीं दिखाई दिया। जिसके बाद उसके परिजन उसे दिल्ली के मैक्स अस्पताल ले गए जहां पर उसकी मौत हो गई। यशोदा अस्पताल से मिली रिपोर्ट में शोभा को स्क्रब टाइफस बीमारी की पुष्टि हुई थी।

जंक फूड से जा सकती हैं आपके बच्चों की आँखें, ये है इसका साबुत

सभी बीमारियों से भी घातक स्क्रब टाइफस का एक मरीज मिला है।
ऐसे करें बचाव

– पार्क या पेड़-पौधों के पास जाने से पहले फुल स्‍लीव्‍स के कपड़े पहनें।

– तीन-चार दिन बाद भी बुखार नहीं उतरने पर डॉक्टर के पास जाएं।

– घर के अंदर और इसके आसपास के क्षेत्रों में कीटनाशक दवाएं छिडकें।

– आस-पास के क्षेत्र, घर और शरीर की साफ-सफाई का खास ध्यान दें।

– घर में चूहों को घुसने न दें।

ये हैं लक्षण

– सांस लेने में परेशानी महसूस हो।
– पीलिया के लक्षण दिखने लगे।
– उल्टी होना।
– जोड़ों में दर्द की शिकायत।
– तेज कंपकंपी के साथ बुखार।
– गर्दन में दर्द की समस्‍या।
– शरीर के जिस हिस्से पर कीड़ा काट लेता है, वहां लाल रंग का एक निशान पड़ जाता है।