निर्भया केस पर पटियाला हाउस कोर्ट(Patiala House Court) ने अपना फैसला सुना दिया है। सजा के अनुसार निर्भया के दोषियों को 22 जनवरी सुबह 7 बजे चारों को फांसी दे दी जाएगी।

निर्भया केस पर पटियाला हाउस कोर्ट(Patiala House Court) ने अपना फैसला सुना दिया है। सजा के अनुसार निर्भया के दोषियों को 22 जनवरी सुबह 7 बजे चारों को फांसी दे दी जाएगी। आपको बता दें कि लगभग 7 साल बाद तमाम कानूनी प्रक्रिया के बाद देश के बहुचर्चित केस निर्भया कांड पर फैसला आया है और आखिरकार आरोपियों के नाम डेथ वॉरेंट(Death Warrant) जारी किया गया है।

Image result for तिहाड़ जेल में पूरी की जाएगी “Dummy Execution” की प्रक्रिया

दोषियों को फांसी दिल्ली के तिहाड़ जेल में होनी है। फांसी के प्रक्रिया के तहत तिहाड़ जेल प्रशासन ने जेल को डमी एक्जीक्यूशन(Dummy Execution) की प्रक्रिया को भी अंजाम दिया जाएगा। इसके लिए तिहाड़ के सीनियर अधिकारियों को फांसी से पहले फांसी की का निरीक्षण किया। सूत्रों के अनुसार फांसी देने के लिए चार अलग-अलग तख्ते बनाए गए हैं।

दोषियों को फांसी जेल नंबर 3 में दिया जाएगा। फांसी की प्रक्रिया को जेल मैन्यूल के आधार पर अंजाम दिया जाएगा। अगर बात डमी एक्जीक्यूशन की करें तो उसके लिए फांसी से पहले हर एक तख्त पर रस्सी के सहारे आरोपी के वजन से तीन गुना ज्यादा रेत से भरे बोरे को लटकाया जाएगा और ये चेक किया जाएगा कि कहीं रस्सी  तो नहीं रही है।

इसके लिए तिहाड़ जेल प्रशासन ने रस्सियां पहले से ही बिहार के बक्सर जेल से मंगवा ली है। रिपोर्ट के अनुसार चारों आरोपियों को अलग-अलग जेल में रखा गया है। रस्सियों की तरह तिहाड़ जेल प्रशासन ने जल्लाद भी तय कर लिया है। वहीं फांसी को अभी भी 9 दिन बाकी है। देखना होगा कि इन 9 दिनों में  किस तरह आरोपी कानूनी विकल्प का इस्तेमाल करते हैं या नहीं। अगर आरोपी ऐसा कुछ नहीं करते हैं तो तय समय पर फांसी होना तय है।