रविवार को अरुण जेटली का दिल्ली के निगम बोध घाट पर हुआ था अंतिम संस्कार।

बीजेपी नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का 66 साल की उम्र में दिल्ली के ऐम्स में शनिवार को निधन हो गया था। अरुण जेटली पिछले कुछ महीनों से बीमार चल रहे थे। वह सॉफ्ट टिशू कैंसर नामक बीमारी से जूझ रहे थे। रविवार को दिल्ली के निगम बोध घाट पर अरुण जेटली के अंतिम संस्कार के दौरान कई जेबकतरे भी पहुंचे। खबर यह है कि उन्होंने वहाँ पर कुछ लोगों की जेब काटने के साथ फोन भी चुरा लिए।

दरअसल, अरुण जेटली के अंतिम संस्कार मे भीड़ का जमावड़ा देख, जेबकतरे एक योजनाबद्ध तरीके से उस संस्कार में शामिल हो गए और लगभग 12 लोगों की जेबें उड़ा दी। इनमें एक भाजपा के सांसद बाबुल सुप्रियो का भी नाम सामने आ रहा है। पतंजलि के प्रवक्ता एस.के तिजारावाला ने ट्वीट करके शिकायत की है कि रविवार शाम उनका और सुप्रियो सहित 10 अन्य व्यक्तियों के मोबाइल फोन की चोरी हो गई। कश्मीरी गेट पुलिस थाने के पुलिसकर्मियों ने बताया कि उन्हें अभी तक कोई शिकायत नहीं मिली है। बाबुल सुप्रियो और एस.के तिजारवाला समेत राज्य मंत्री सोम प्रकाश का फोन भी चोरी हुआ था।

बता दें, अरुण जेटली के अंतिम संस्कार मे उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, भाजपा के वरिष्ठ नेता एल के आडवाणी, पार्टी अध्यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, पार्टी के कार्यवाहक अध्यक्ष जे पी नड्डा, केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण, स्मृति ईरानी, पीयूष गोयल, हर्षवर्धन, प्रताप चंद्र सारंगी, प्रकाश जावड़ेकर, कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया और कपिल सिब्बल, राकांपा नेता पी प्रफुल्ल पटेल और योग गुरु रामदेव निगमबोध घाट पर शामिल हुए थे।