मेट्रो स्टेशनों पर तैनात CISF अधिकारियों का कहना है कि महिला पॉकेटमार ज्यादातर सेंट्रल दिल्ली से मेट्रो में चढती हैं, फिर भीड़ का फायदा उठा कर यात्रियों का पर्स, चेन आदि चोरी कर लेती है।

आज के दौर में दिल्ली मेट्रो दिल्ली के आम आदमी की ज़िंदगी का हिस्सा बन गया है. आज अगर हमे दिल्ली या दिल्ली एनसीआर में कहीं भी जाना है तो हम बिना किसी परेशानी और किफायती दामों में आ और जा सकते हैं. तो क्या हो लोगों की ज़िंदगी आसान करने वाली दिल्ली मेट्रो में ही हम सेफ ना हो! यूँ तो दिल्ली मेट्रो की सुरक्षा बहुत कड़ी है, पर कही न कही चूक हो ही जाती है। 

आज के समाज को आईना दिखाती एक बच्ची के उसकी मां के लिए लिखे शब्द ‘सॉरी अम्मा’

Image result for pickpocket in delhi metro

डीसीपी ने बताया कि राजीव चौक मेट्रो स्टेशन पर उन्होंने संदिग्ध हालत में युवक को देखा। उसकी तलाशी करने पर उन्हें चार मोबाइल फोन बरामद हुए। उससे पूछताछ क्र ही रहे थे कि उसी दौरान वहां एक युवक पहुंचा और उसने उसे मोबाइल चोरी होने की बात डीसीपी को कही, उन चार मोबाइल में से उसने अपना मोबाइल पहचान लिया।

Image result for delhi metro rajiv chowk station

मोबाइल के पैटर्न और फोनबुक में बताए गए नंबर के आधार पर उसके फोन की पहचान की गई। उसके पास जो मोबाइल मिले, वह उनके बारे में कुछ भी नहीं बता सका। कड़ी पूछताछ के बाद पता चला कि वह भीड़भाड़ वाले इलाकों में जेब काटता है।

Image result for pickpocket in delhi metro

मेट्रो स्टेशनों पर तैनात CISF (Central Industrial Security Force) के अधिकारियों का कहना है कि महिला पॉकेटमार ज्यादातर सेंट्रल दिल्ली से मेट्रो में चढती हैं। फिर ज्यादा भीड़ का फायदा उठा कर यात्रियों का पर्स, चेन आदि चोरी कर लेती है। यह भी बताया जाता है कि महिला यात्री के साथ कोई अपरिचित महिला अगर असामान्य व्यवहार करे, तो सावधान हो जाना चाहिए, क्योंकि इसके बाद अगला निशाना आप हो सकते हैं।

CAB में एक बार फिर से ‘दादा’ की बादशाहत, निर्विरोध चुने गए CAB के अध्यक्ष

कश्मीरी गेट, चांदनी चौक, नई दिल्ली, राजीव चौक, हुड्डा सिटी सेंटर, शाहदरा, कीर्ति नगर, तुगलकाबाद, समयपुर बादली, यमुना बैंक, वैशाली (गाजियाबाद, यूपी) इन स्टेशनों पर नजर ज्यादा होती इन चोरों कि। आगे से दिल्ली मेट्रो में प्रवेश करे तो अपनी कीमती चीज़ें बचा के चलें।