ICC अब 5 दिनों तक चलने वाले क्रिकेट के इस सबसे लंबे प्रारुप को कम करने की दिशा में काम कर रहा है। यदि इस फैसले पर मुहर लग जाती है तो फिर आने वाले दिनों में टेस्ट मैच 4 दिनों के होंगे।

टेस्ट क्रिकेट की लोकप्रियता लगातार कम हो रही है। क्रिकेट के सबसे लंबे प्रारुप की लोकप्रियता को कायम रखने के लिए ICC तमाम तरह के प्रयास कर रहा है। जिसमें ICC ने डे-नाइट टेस्ट मैचों की शुरुआत कर इस दिशा में काम करना शुरु कर दिया है। इसके अलावा ICC द्वारा वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का आयोजन करना भी टेस्ट क्रिकेट की लोकप्रियता को बनाये रखने में आईसीसी द्वारा उठाया गया एक बहुत बड़ा कदम है। अब इस कड़ी में आईसीसी एक और बड़ा फैसला ले सकती है। जिसको लेकर आईसीसी ने बैठकें करना भी शुरु कर दिया है।

साउथ अफ्रीका टीम का ये खिलाड़ी अब इस देश की तरफ…

Image result for अब 5 की जगह 4 दिनों का होगा टेस्ट मैच

ICC अब 5 दिनों तक चलने वाले क्रिकेट के इस सबसे लंबे प्रारुप को कम करने की दिशा में काम कर रहा है। यदि आईसीसी के इस फैसले पर मुहर लग जाती है तो फिर आने वाले दिनों में टेस्ट मैच 4 दिनों के होंगे। चार दिवसीय टेस्ट मैच कोई नई धारणा नहीं है। ब्लकि इससे पहले भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर टीमें 4 दिवसीय टेस्ट मैच खेल चुकी हैं। जिसमें इसी साल इंग्लैंड और आयरलैंड ने चार दिवसीय टेस्ट मैच खेला था।

भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार की हालत हुई गंभीर…

इसके अलावा इससे पहले 2017 में दक्षिण अफ्रीका और जिम्बाब्वे ने भी ऐसा ही एक मैच खेला था। हाल ही में खेली गई सभी टेस्ट सीरीज की अगर बात की जाए तो उनमें भी ज्यादातार टेस्ट मैच 4 दिनों में ही खत्म हुए हैं। जिसके चलते टेस्ट मैच को 4 दिनों का करने की सोच को और जोर दिया जा रहा है।

अब 5 की जगह 4 दिनों का होगा टेस्ट मैच

सौरव गांगुली से जब इस टेस्ट मैच को 4 दिन का करने को लेकर सवाल पुछा गया तो उन्होंने कहा कि, ‘’सबसे पहले हमें प्रस्ताव देखना होगा, इसे आने दीजिए और इसके बाद हम देखेंगे। अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। बिना सोचे समझे इस पर टिप्पणी नहीं कर सकते।’

अगर 4 दिनों का होगा टेस्ट मैच ?

आईसीसी के इस विचार पर अगर सभी बोर्ड अपनी सहमति देते हैं तो फिर आईसीसी इस दिशा में काम कर सकती है। आईसीसी की क्रिकेट समिति 2023 से 2031 के सत्र में टेस्ट मैचों को 5 दिनों की जगह 4 दिनों का करवा देगी। चार दिनों के टेस्ट मैच में एक दिनों में 90 की जगह 98 ओवर फेंके जाएंगे। टेस्ट मैचों के 4 दिनों का हो जाने के चलते आईसीसी इसके बाद ज्यादा मैचों का आयोजन करवा सकती है।