अनुच्छेद 370 को खत्म करते ही मोदी सरकार के लिए आ गई बुरी खबर

0
13

भाजपा को उसकी ही सहयोगी पार्टी जनता दल यूनाइटेड यानि जदयू ने बड़ा झटका दे दिया है।Image result for जदयू

पहले तीन तलाक बिल और अब अनुच्छेद 370 हटाने का फैसला ले लिया गया है। इस फैसले का इंतजार देश 72 सालों से कर रहा था। आखिरकार भारतीय जनता पार्टी ने इस सपने को साकार कर ही दिया। मोदी सरकार ने अनुच्छेद 35a भी समाप्त कर दिया है। इन धाराओं के खत्म होने की वजह से जम्मू कश्मीर को मिली विशेष शक्तियां भी समाप्त हो जाएंगी। इस काम के बाद अलग-अलग जगहों से अलग-अलग प्रतिक्रिया रही है। कोई सरकार का साथ दे रहा है तो कोई सरकार के खिलाफ बोल रहा है, लेकिन इन सबसे अलग मोदी सरकार पीछे हटती नहीं दिख रही है।

मोदी सरकार ने सोमवार को राज्यसभा में बड़ी घोषणा कर दी। गृहमंत्री अमित शाह ने ऐलान किया कि जम्मू कश्मीर से भाजपा सरकार ने अनुच्छेद 370 हटाने का फैसला ले लिया है। वहीं जम्मू कश्मीर को राज्य नहीं केन्द्र शासित प्रदेश बना दिया। इसके साथ ही लद्दाख को भी कश्मीर से अलग कर केन्द्र शासित प्रदेश बना दिया गया। इस फैसले का भाजपा जमकर जश्न मना रही थी। वहीं कश्मीरी पंडितों से लेकर शिवसेना तक जश्न मनाते हुए नजर आ रही थी।

कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाते ही भाजपा के बुरी खबर आ गई। भाजपा को उसकी ही सहयोगी पार्टी जनता दल यूनाइटेड यानि जदयू ने बड़ा झटका दे दिया है। जेडीयू ने भाजपा के इस फैसले पर साथ देने से साफ इनकार कर दिया है। जदयू राष्ट्रीय महासचिव केसी त्याही ने साफ कह दिया है कि पार्टी प्रमुख नीतीश कुमार, जेपी नारायण, राम मनोहर लोहिया और जॉर्ज फर्नांडीज़ की परंपरा को आगे बढ़ा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सोच इस विधेयक से अलग है। जदयू नहीं चाहती है कि अनुच्छेद 370 को निरस्त किया जाना चाहिए।जदयू के इस फैसले से भाजपा को राज्यसभा मे बड़ा झटका लग गया है।