राम मंदिर और बाबरी मस्जिद मुद्दे का फैसला करीब आते देख अयोध्या की सुरक्षा बढ़ा दी गई है

अयोध्या मामले में सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में बहुत तेजी से चल रही है और इस तेज सुनवाई के बाद फैसला जल्दी आने की पूरी उम्मीद है। सुप्रीम कोर्ट के जज रंजन गोगोई के रिटायरमेंट से पहले अयोध्या का फैसला आने की पूरी उम्मीद जताई जा रही है।  राम मंदिर और बाबरी मस्जिद मुद्दे का फैसला करीब आते देख अयोध्या की सुरक्षा बढ़ा दी गई है और वहां पर धारा 144 लागू कर दी गई है। काफी सारी फोर्स को बुलाया गया है, फोर्स के लिए 200 स्कूलों को आरक्षित किया गया है।
Ayodhya ram mandirजानकारी के लिए बता दें कि अयोध्या मामला कोई नया मामला नहीं है बल्कि यह सदियों से चला आ रहा मामला है। 1993 में बाबरी मस्जिद के गिराए जाने के बाद यह मुद्दा और भी ज्यादा संवेदनशील हो गया। चुनाव के दौरान हर पार्टी अयोध्या का मुद्दा बनाकर लोगों से वोट लेती है, हर पार्टी अपने चुनाव के दौरान यह वादा करती है कि वह चुनाव जीतने के बाद राम मंदिर बनवा देगी। लेकिन चुनाव जीतने के बाद कोई भी पार्टी उधर नजर नहीं आती। लेकिन इस बार अयोध्या मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में बहुत तेजी से चल रही है।

कई सालों से सुनवाई चाहे किसी भी तरह चली हो लेकिन इस बार सुप्रीम कोर्ट की तरफ से भी यह कहा जा रहा है कि उनके चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के रिटायरमेंट से पहले अयोध्या का फैसला लिख दिया जाएगा। अयोध्या के डीएम अनुज कुमार झा ने जिला में 12 अक्टूबर से 10 दिसंबर तक धारा 144 लागू कर दी है। धारा 144 लागू करने के साथ-साथ अयोध्या की सुरक्षा भी बढ़ा दी गई है।