हत्या के बाद दोनों आरोपी अशफाक और मोहिउद्दीन लखनऊ से बरेली मौलाना से मिलने आए थे।

कमलेश तिवारी हत्याकांड में एटीएस के हाथ एक नई लीड लगी हैं दरअसल एटीएस ने बरेली से एक मौलाना को कस्टडी में ले लिया गया है। दरअसल मौलाना पर हत्यारों की मदद का आरोप है। फिलहाल मौलाना को हिरासत में लेकर एटीएस लखनऊ रवाना हो गई है।

हिरासत में लिए गए मौलाना का नाम सैय्यद कैफी अली है और वह दरगाह आला हजरत में मौलाना है।

कमलेश तिवारी की हत्या के बाद दोनों आरोपी अशफाक और मोहिउद्दीन लखनऊ से बरेली मौलाना से मिलने आए थे। एटीएस को जैसे ही इस बात की जानकारी मिली मौलाना को तुरंत हिरासत में ले लिया गया। दोनों आरोपियों द्वारा बरेली के एक अस्पताल में इलाज कराने की जानकारी भी मिली है।

बता दे कि कमलेश की हत्या की साजिश रचने के आरोप में पकड़े गए तीनों साजिशकर्ताओं मौलाना मोहसिन शेख, राशिद पठान उर्फ रशीद और फैजान को विशेष रिमांड मजिस्ट्रेट के सामने जल्द ही पेश करने वाली है। तीनों आरोपियों को ट्रांजिट रिमांड पर सूरत से लाया गया है।

 हिरासत में लिए गए मौलाना का नाम सैय्यद कैफी अली है और वह दरगाह आला हजरत में मौलाना है। इन लोगों से सोमवार सुबह 11 बजे से ही पूछताछ शुरू कर दी गई थी। एटीएस, एसटीएफ, एसआईटी और खुफिया विभाग के अफसरों ने तीनों से अलग-अलग कई सवाल पूछे। इनसे अशफाक और मोइनुद्दीन के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी मांगी गई। पुलिस ने घटना में शामिल तीन लोगों को गुजरात के सूरत से गिरफ्तार किया था।

आपको बता दें कि शुक्रवार को लखनऊ में रहने वाले हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की दो बदमाशों ने बेरहमी से हत्या कर दी। दोनों बदमाश मिठाई के डिब्बे में पिस्टल व चाकू छिपाकर कमलेश के घर में ही स्थित दफ्तर पहुंचे। वहां उन्होंने पहले उनकी गर्दन पर गोली मारी। फिर चाकू वार करने के बाद गला रेत कर हत्या कर दी थी।