एक रॉकेट हमले के दौरान ईरान समर्थक मिलिशिया पॉपुलर मोबलाइजेशन फोर्स के डिप्टी कमांडर अबू महदी अल-मुहांदिस की मौत हो गई।

अमेरिकी हमले में ईरान की कुद्स सेना के मेजर जनरल सुलेमानी की मौत हो गई। इसके बाद पूरी दुनिया में दहशत फैली है और एक बार फिर युद्ध का खतरा मंडराने लगा है। आपकों बतादें कि जनरल सुलेमानी का काफिला बगदाद एयरपोर्ट की ओर जा रहा था तभी एक रॉकेट हमले के दौरान ईरान समर्थक मिलिशिया पॉपुलर मोबलाइजेशन फोर्स के डिप्टी कमांडर अबू महदी अल-मुहांदिस की मौत हो गई।  दरअसल कुछ दिन पहले ही ईरानी मिलिशिया के समर्थकों ने बगदाद स्थित अमेरिकी दूतावास पर हमला बोला था।

एक रॉकेट हमले के दौरान ईरान समर्थक मिलिशिया पॉपुलर मोबलाइजेशन फोर्स के डिप्टी कमांडर अबू महदी अल-मुहांदिस की मौत हो गई।

प्रदर्शनकारियों ने  दूतावास के गेट पर आतंक फैलाया था। इस प्रदर्शन और आतंक को रोकने के लिए पुलिसकर्मियों ने आंसू गैसे के गोले छोड़े थे। अगर बात करें अमेरिकी हमले में ईरान जनरल सुलेमानी की मौत का बदला लेने का ऐलान भी हो चुका है। गौरतलब है कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि बगदाद एयरपोर्ट पर हुई एयर स्ट्राइक किसी युद्ध को छेड़ने के लिए नहीं बल्कि युद्ध को खत्म करने के लिए की गई है। अमेरिका ने युध्द की स्थिति को देखते हुए मध्य-पूर्व में 3 हजार सैनिक भेजने का ऐलान किया है। साथ ही अमेरिका ने पहले ही 14 हजार सैनिकों की तैनाती की है। ईरान इराक के मुकाबले बहुत बड़ा देश है।